//

MPPSC छात्र ने फेल होने के डर से की खुदकुशी

इंदौर। इंदौर के भंवरकुआं क्षेत्र में किराए से कमरा लेकर MPPSC की पढ़ाई कर रहे एक छात्र ने चूहा मारने की दवाई खाकर आत्महत्या कर ली। 25 जुलाई को उसने MPPSC की परीक्षा दी थी। उसने पेपर के आधार पर अपने नंबर जोड़े और पिछले साल के कटऑफ से मिलान किए तो एक-दो नंबर कम आ रहे थे। इससे हताश हो गया था।

भंवरकुआं TI संतोष दूधी ने बताया कि बड़वानी निवासी 25 साल का विनोद पिता प्रेम सिंह डावर नानक नगर में किराए से कमरा लेकर अन्य छात्रों के साथ पढ़ाई करता था। शनिवार शाम को वह अपने कमरे से निकला और करीब आधे घंटे बाद दोबारा कमरे पर पहुंचा। बॉथरूम में जाकर उल्टियां करने लगा। दोस्तों ने उससे उल्टी करने का कारण पूछा तो उसने बताया कि उसने चूहा मारने की दवाई खा ली है। बाद में उसने सोयाबीन का तेल पी लिया, ताकि उल्टियां हों और जहर बाहर निकल आए। उसे थोड़ा आराम भी लगा था। थोड़ी देर बाद फिर उल्टियां करने लगा। उसका रूम पार्टनर उसे तुरंत अस्पताल लेकर आया, लेकिन उसकी जान नहीं बची। पुलिस रूम पार्टनर के बयानों के बाद अन्य बिंदुओं पर भी जांच कर रही है।

दोस्तों के समझाने के बाद उसने अपना पूरा दिमाग पढ़ाई में लगा लिया था

विनीत के दोस्तों ने बताया कि विनोद का किसी लड़की से अफेयर था। तीन महीने पहले दोनों का ब्रेकअप हो गया। दोस्तों के समझाने के बाद उसने अपना पूरा दिमाग पढ़ाई में लगा लिया था। दिन-रात केवल वह MPPSC की तैयारी में जुटा रहता था। उधर, दोस्तों को काफी टेंशन थी कि विनोद गर्लफ्रेंड के चक्कर में कोई गलत कदम न उठा ले, इसलिए उसे वह अकेला नहीं छोड़ते थे। जब से वह परीक्षा की तैयारी में लगा था। दोस्तों को भी इत्मीनान हो गया था कि अब विनोद पढ़ाई की ओर लग गया है और वह कोई भी गलत कदम नहीं उठाएगा। लेकिन शनिवार दोपहर उसने कहा कि वह कमरा खाली कर रहा है। तुम दूसरा पार्टनर देख लेना या तो में अपने जीजा के साथ रहूँगा या फिर वापस गांव चले जाऊगा। दोस्तों को यह बात समझ नहीं आई थी। इसके बाद विनोद ने जब जहर खाने की बात बताई तब रूम पार्टनर मोहित ने विनोद के जीजा को फोन कर इसकी जानकारी दी।