//

बिच्छूओं ने बनाया कामयाब कारोबारी, एक ग्राम जहर की कीमत सात लाख

बिच्छूओं ने बनाया कामयाब कारोबारी, एक ग्राम जहर की कीमत सात लाख ।

काहिरा। कुछ इंसानों को अजीबो-गरीब शौक होते हैं और ये शौक ही उनकी किस्मत को बदल कर रख देते हैं। कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है मिस्त्र में रहने वाले मोहम्मद हाम्दी बोश्ता ने। बिच्छू पकड़ने के शौक ने उनको अर्श से फर्श पर पहुंचा दिया और बिच्छू उनकी कमाई का बेहतर जरिया बन गया।

आर्कियोलॉजी की पढ़ाई बीच में छोड़ दी

25 साल के मोहम्मद हाम्दी बोश्ता के अमीर और कामयाब बनने की दिलचस्प और हैतअंगेज दास्तान है। उनके शौक ने उनको कामयाबी का रास्ता दिखलाया। मोहम्मद हाम्दी को मिस्र के रेगिस्तानी और तटीय इलाकों से बिच्छू पकड़ने का शौक था। इसके लिए उन्होंने आर्कियोलॉजी की पढ़ाई बीच में छोड़ दी। बिच्छूओं से उन्होंने जहर निकालने का काम शुरू कर दिया। बिच्छूओं का जहर दवाई बनाने के काम आता है। उनको एक ग्राम जहर के बदले उन्हें करीब 7 लाख रुपए मिलते हैं।

यूरोप और अमेरिका में सप्लाई होता है जहर

छोटी उम्र में वो एक ‘कायरो वेनोम कंपनी’ के मालिक बन गए, जहां जहां अलग-अलग प्रजाति के 80,000 हजार से ज्यादा बिच्छू और सांप हैं। इनका जहर निकालकर दवा बनाने वाली कंपनियों को बेच दिया जाता है। मोहम्मद हाम्दी इस जहर को यूरोप और अमेरिका में सप्लाई करते हैं, जहां इनका इस्तेमाल एंटीवेनम डोज़ और हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों की दवाइयां बनाने में किया जाता है।