///

बंगाल में कांग्रेस के खाते में आई 294 मे से 0 सीट, जानें बाकी 4 राज्यों में कांग्रेस का हाल

Start

Assembly Election: कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक कभी देश में जिस पार्टी का राज चलता था, आज वही पार्टी अपना अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष कर रही है। पांच राज्यों के चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा और देश के बड़े सूबे में से एक बंगाल में उसको 294 में से एक भी सीट हासिल नहीं हुई। पुदुचेरी में उसने सत्ता गंवा दी और असम में उसको गठबंधन के बावजूद हार का सामना करना पड़ा, वहीं सांप्रदायिकता का आरोप लगा वह अलग।

बंगाल में लेफ्ट का साथ काम नहीं आया

हर तरफ से हार का सामना कर ही कांग्रेस अब भाजपा की बंगाल में हार का जश्न मना रही है। कांग्रेस पार्टी का पश्चिम बंगाल से लेकर पुडुचेरी तक बेहद खराब प्रदर्शन रहा है। बंगाल के अलावा केरल, असम और पुडुचेरी में भी कांग्रेस पार्टी को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। बंगाल में उसने लेफ्ट से हाथ मिलाया, लेकिन वहां पर उसका खाता तक नहीं खुल सका। कांग्रेस और लेफ्ट के खराब प्रदर्शन का फायदा टीएमसी को मिला। केरल में राहुल ने पूराी ताकत झोंक दी, लेकिन पार्टी सत्ता से दूर रही। यहां 56 विधायकों वाली कांग्रेस चुनाव नतीजे में सिर्फ 40 सीट जीतने में सफल रही।

असम में खाई मात

असम में राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंक गांधी ने काफी चुनाव प्रचार किया। सांप्रदायिक दल मानी जाने वाली पार्टी के साथ हाथ मिलाकर साफ्ट हिंदुत्व का भी सहारा लिया, लेकिन सत्ता में वापसी में सफलता नहीं मिली। कांग्रेस पार्टी सत्ता के नजदीक भी नहीं पहुंच पाई। इस चुनाव में देश की सबसे पुरानी पार्टी को 10 सीटों का नुकसान उठाना पड़ा है। वह 46 से 36 सीटों पर पहुंच गई। केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी में कांग्रेस पार्टी 23 से सीधे 4 सीट पर आ गई।

इस तरह से हर तरफ हार का सामना कर रही कांग्रेस अब भाजपा की हार का जश्न मना रही है और इसी से संतोष कर रही है कि बंगाल में ममता ने जीत दर्ज कर भाजपा को सत्ता से दूर रखा है।