////

उज्जैन में अपने ही परिचित को लगाया लाखों रुपए का चूना, लोन दिलाने का झांसा देकर 7.10 लाख रुपये ठगे

उज्जैन। डेयरी फार्म खुलवाने के लिए 28 लाख रुपए का लोन दिलाने के नाम पर 7.10 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। करीब दो साल बाद पुलिस ने ठगाए युवक की शिकायत पर आरोपित के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। नागझिरी पुलिस ने बताया कि शांतिनाथ गली निवासी गिरीश पिता सत्यनारायण चौहान 29 साल का परिचय विकास जैन निवासी ग्राम खरसोद खुर्द से था। विकास जैन बैंक से लोन दिलवाने का काम करता था। जिसके चलते ग्रीस और उसके बीच अक्सर लोन के संबंध में चचार्एं होती रहती थी। साल 2019 में विकास जैन ने गिरीश चौहान को डेयरी फार्म के लिए 28 लाख रुपए का लोन दिलवाने का झांसा दिया। शासकीय बैंक से लोन तथा सब्सिडी मिलने के विश्वास से ग्रीस विकास जैन के झांसे में आ गया। इस दौरान योजना बनाकर विकास जैन ने अपने बैंक खाते में गिरीश से 7 लाख 10 हजार जमा करवा लिए।

सब्सिडी का दिया था लालच

नागझिरी पुलिस का कहना है कि आरोपी विकास जैन ने गिरीश चौहान को डेरी फार्म के लोन पर सब्सिडी का लालच भी दिया था। इस दौरान उसने खरसोद खुर्द स्थित पंजाब नेशनल बैंक में खाता खुलवाने का भी कहा था। उक्त खाते में ही डेयरी फार्म के लोन की 28 लाख रुपए की राशि बैंक द्वारा दिए जाने का झांसा दिया था। जिसमें उलझ कर गिरीश चौहान धोखाधड़ी का शिकार हो गया।

अपने खाते में जमा करवाएं रुपए

विकास जैन ने गिरीश चौहान को यह भी झांसे में दिया था कि 28 लाखों रुपए के लोन से पहले उसे बैंक खाते में ग्यारंटी के तौर पर 7 लाख 10 हजार जमा करवाने होंगे। पीएनबी बैंक में खाता नहीं खुला तो बड़ी ही चतुराई से विकास जैन ने गिरीश से कहा कि वह उसके बैंक खाते में उक्त रुपए जमा करवा दें। जैसे ही बैंक में उसके नाम का खाता खुलेगा तो वह उक्त रुपए खाते में जमा करवा देगा। रुपए जमा करवाने के बाद से ही विकास ने गिरीश से बात करना बंद कर दिया।

धोखाधड़ी के आरोप में बंद है जेल में

पुलिस ने बताया कि विकास जैन माधवनगर थाना क्षेत्र में भी एक धोखाधड़ी कर चुका है। उक्त मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर भेरूगढ़ जेल भेज दिया है। पिछले 2 साल से गिरीश चौहान लगातार अपने रुपए लौटाने की मांग विकास चौहान से करता रहा। लेकिन जब उसने रुपए लौटाने से इंकार कर दिया तो उसने नाथ जी थाने में इसकी शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने बताया कि देवास रोड स्थित साईं बाग कॉलोनी निवासी हर्षवर्धन के घर में बैठकर दोनों के बीच में लोन की बातचीत हुई थी।