///

अपनों की जान बचाने के लिए मेडिकल की कतारों में लगे परिजन ,नहीं मिल रहे ये इंजेक्शन

इंदौर। कोरोना महामारी की मार झेल रहे इंदौरवासियों को ब्लैक फंगस ने सताना शुरू कर दिया है। कुछ ऐसा ही इंदौर के दवाबाजार में देखने को मिला जिसमें ब्लैक फंसग के शिकार मरीजों के परिजनों ने दवा के लिए कतार लगानी शुरू कर दी है । हद यह है कि रविवार को एम्फोसिटिरिन-बी इंजेक्शन के 600 वायल आए हैं, लेकिन ये एमवाय में भर्ती मरीजों को भी दो-तीन दिन ही चलेंगी ।

दुकानों पर एम्फोसिटिरिन-बी इंजेक्शन का शॉर्टेज

कुछ दिनों पहले रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए लगी लंबी कतारों को देख चुके इंदौर को ये लंबी कतारे एक बार फिर देखने को मिलने लगी है। तेजी से अपने पैर पसार रहे ब्लैक फंगस का संक्रमण मरीजों के परिजनों को सता रहा है जिसके चलते परिजन इसकी दवा एम्फोसिटिरिन-बी इंजेक्शन के लिए लाइन लगा रहे हैं। कुछ ऐसा ही इंदौर के दवा बाजार में देखने को मिला जहां लोगों ने सुबह से ही दुकानों के बाहर खड़े होना शुरू कर दिया है, लेकिन इंजेक्शन स्टॉक ना होने के कारण, लोगों को निराशा ही हाथ लग रही है।

गौरतलब है कि शासन द्वारा रेमडेसीविर के बाद ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के डिस्ट्रीब्यूशन को मेडिकल दुकानों से बंद कर अस्पताल तक सीधे पहुंचाने का निर्णय लिया था, ताकि लोगों को इस इंजेक्शन के लिए मेडिकल दुकानों के चक्कर न काटना पड़े, लेकिन लगातार बढ़ रही मांग और पैर पसार रहे फंगल इंफेक्शन के कारण इसकी आपूर्ति अभी भी एक चिंता अभी से बनी हुई है।