///

जिन कोरोना मरीजो को प्लाज्मा की आवश्यकता , उनके लिए राहत भरी खबर

देश भर में कोरोना संक्रमितों के मामले बढ़े है लेकिन इस बीमारी को हरा कर बहोत से लोग स्वस्थ भी हुए है। महामारी के चलते कई लोगों ने दुसरो की मदद कर इंसानियत की मिशाल पेश की है। संक्रमण के दौर में भी लोगों ने अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए और मानवता को ध्यान में रखकर प्लाज्मा डोनेट के महत्व को भी समझा और कोरोना से ठीक हुए मरीजों ने जरुरत मंद संक्रमितों को प्लाज्मा डोनेट भी किया इस कड़ी में अब इंदौर शहर में भी प्लाज्मा डोनेट के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा कॉल लगा कर प्लाज्मा डोनेट के लिए लोगो को जागरूक किया जा रहा है ।

इंदौर में कोरोना महामारी में जिला प्रशासन लगातार स्वास्थ्य विभाग के साथ बैठक कर कई निर्णयों पर विचार विमर्श कर कार्यप्रणाली तैयार कर रहा है इसी कड़ी में शहर में प्लाज्मा डोनेट करने के लिए कॉल सेंटर के माध्यम से जिला प्रशासन द्वारा उन मरीजों को कॉल किया जा रहै है जो इस बीमारी से ठीक हो चुके है। जिला प्रशासन प्लाज्मा डोनेट करने वाले लोगों से कॉल कर उन्हें जनहित के कार्यों में आगे आने के लिए निवेदन करते हुए उन्हें प्लाज्मा डोनेट के लिए बुलाया जा रहा है। प्रशासन की इस मुहीम से लोग भी अपनी जिम्मेदारी समझ रहे है ओर प्लाज़्मा डोनेट करने के लिए आगे आरहे है ।

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया रेमड़ेसिविर की जगह प्लाज्मा बना अचूक दवा से

इसी को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह का कहना है कि प्लाज्मा कोरोना बीमारी में ईलाज के लिए एक अचूक दवा के रूप में माना जा रहा है कोरोना से पीड़ित मरीज जब रेमड़ेसिविर लेने की स्थिति में पहुंचता है उस समय यदि तत्काल प्रभाव से मरीज को प्लाज्मा चढ़ा दिया जाए तो वह जल्द स्वस्थ हो सकता है। सिंह ने आगे बताया कि ब्लड के माध्यम से लिया हुआ प्लाज्मा काफी कम मात्रा में प्राप्त होता है और जिस व्यक्ति की बॉडी से ब्लड के द्वारा प्लाज्मा लिया जाता है 3 माह तक ब्लड देने की स्थिति में नहीं रहता है। इस कारणवश डॉक्टरों से चर्चा कर एमवाय में स्थित मशीन के माध्यम से प्लाज्मा डोनेशन का काम कराया जा रहा है। यह मशीन से प्लाज्मा लेने के बाद डोनर की बॉडी 15 दिन के बाद फिर से एक बार प्लाज्मा देने के लिए तैयार हो जाती है। मशीन के द्वारा प्लाज्मा में सबसे बड़ी समस्या मशीन में उपयोग होने वाली किट की आती है जोकि विदेश से आती है इस समस्या को दूर करने के लिए किटको मंगाने का आदेश जारी कर दिया गया है ताकि यह समस्या भी दूर की जा सके ।

शहर के लिए प्लाज्मा डोनर हो रहे तैयार

शहर में प्लाज्मा डोनेट करने को लेकर चलाई जा रही मुहिम में एक ही दिन में 50 से अधिक लोग अपना प्लाज्मा डोनेट करने के लिए एमवाय पहुंचे हैं जिन कोरोना मरीजो को प्लाज्मा की आवश्यकता है उनके लिए यह राहत भरी खबर है ।