///

राशन माफियाओं के आशियाने हुए ध्वस्त, प्रशासन अब ऐसे कसेगा आरोपियों पर शिकंजा

इंदौर। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में राशन माफियाओं पर लगातार कार्रवाई जारी है इसी कड़ी में कालाबाजारी से जुड़े राशन माफिया भरत दवे के ऑफिस पर निगम ने जेसीबी चलाते हुए ऑफिस को जमींदोज कर दिया।

गरीबों के राशन की हुई थी कालाबाजारी

केंद्र और राज्य सरकारों के माध्यम से गरीब वर्ग के लिए कोरोना काल मे करोड़ों रुपए का राशन इंदौर में भेजा गया था और उसी आधार पर इंदौर शहर मैं भी गरीबों के लिए शासकीय उचित मूल्य की दुकानों पर राशन उपलब्ध कराया जाना था, लेकिन राशन माफियाओं ने गरीबों का राशन कालाबाजारी करते हुए गरीबों की थाली से छीन लिया था, जिसको लेकर कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा सघन जांच-पड़ताल के बाद करीबन 12 शासकीय उचित मूल्य की दुकानों पर कार्रवाई करते हुए सील कर दिया था।

ऑफिस पर चला बुलडोजर

इस मामले में 3 लोगो पर रासुका और 31 लोगो पर नामजद आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के आदेश जारी किए थे। इसी कालाबाजारी के चलते मुख्य राशन माफिया भरत दवे के मोती तबेला स्थित ऑफिस को जिला प्रशासन पुलिस विभाग और नगर निगम द्वारा संयुक्त कार्रवाई करते हुए ऑफिस को नेस्तनाबूद कर दिया गया फिलहाल आने वाले दिनों में कालाबाजारी से जुड़े अन्य राशन माफियाओं पर भी इसी तरह की संयुक्त कार्रवाई सामने आने वाली है तीनों ही विभाग संयुक्त लिस्ट तैयार कर राशन माफियाओं पर कार्रवाई को अंजाम देने की बात सामने आ रही है।

निगम की कार्रवाई के दौरान राशन माफिया से जुड़े कई अन्य लोग कार्रवाई को लेकर आपत्ती लेने पहुंचे थे लेकिन निगम व पुलिस बल द्वारा उन्हें वहां से बल पूर्वक हटाया गया और कार्रवाई को अंजाम दिया गया