/

Nirjala Ekadashi 2021: निर्जला एकादशी के दिन इन बातों का रखें खास ख्याल, जानिए किस वस्तु का करें दान

Start

Nirjala Ekadashi 2021: समस्त व्रतों में एकादशी के व्रत का महत्व सबसे ज्यादा बतलाया गया है। शास्त्रोक्त मान्यता है कि एकादसी के व्रत के करने से इहलोक में धन, संपदा और आरोग्य की प्राप्ति होती है और परलोक में मोक्ष मिलता है। एकादशी में निर्जला एकादशी के व्रत का विशेष महत्व है। इस साल निर्जला एकादशी 21 जून सोमवार को है।

भीम ने किया था निर्जला एकादशी का व्रत

धार्मिक कथा के अनुसार निर्जला एकादशी व्रत को महाभारत काल में भीमसेन ने किया था और इस व्रत से उनको स्वर्गलोक की प्राप्ति हुई थी। निर्जला एकादशी ज्येष्ठ मास में पड़ती है। इस समय भीषण गर्मी का प्रकोप रहता है इसलिए इस दिन शीतल पदार्थों के दान का विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस एकादशी को शीतलता प्रदान करने वाली चीजों को दान करने से बहुत पुण्य फल की प्राप्ति होती है इसलिए लोग इस दिन ठंडा शरबत पिलाते हैं।

अन्नदान से मिलती है सुख-समृद्धि

निर्जला एकादशी के दिन जूतों का दान करना उत्तम फलदायी माना जाता है। इसके अलावा गरीब, जरूरतमंद ब्राह्मणों को अन्नदान, छाता दान, बिस्तर दान, वस्त्र दान करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इस दिन चने और गुड़ का भी दान कर सकते हैं। निर्जला एकादशी के अवसर पर तुलसी के पेड़ के पास घी का दीपक जला कर भगवान श्रीहरी का पूजन करने से धन, यश और वैभव की प्राप्ति होती है और कारोबार में संपन्नता आती है।