स्वास्थ्यकर्मी रामाराव को दोनों खुराक लग चुकी थी।
////

वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद इस शहर में कोरोना से हुई मौत

उज्जैन: उज्जैन में कोरोना वैक्सीन लगाने की दोनों खुराक लेने के बाद स्वास्थ्यकर्मी की कोरोना से मौत का मामला सामने आया है। वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बावजूद स्वास्थ्यकर्मी जिंदगी की जंग हार गया और गुरुवार शाम को दम तोड़ दिया।

उज्जैन में कोरोना का बढ़ा ग्राफ

उज्जैन अब कोरोना की दूसरी लहर से मुकाबला कर रहा है। शहर में रोजाना संक्रमितों का आंकड़ा बड़  रहा है कल जो मेडिकल बुलेटिन जारी हुआ उसमें उज्जैन में अब तक का सबसे बड़ा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा देखने को मिला है। गुरुवार को 83 नए संक्रमित मरीज मिले है। इसके साथ ही अब तक कुल मरीजों की संख्या 5947 पर पंहुच गई है। लेकिन सबसे हैरानी की बात ये की कल जिस संक्रमित मरीज रामाराव  की मौत हुई है उसको वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके थे। 

55 साल के थे  रामराव

संभवत ये देश का पहला मामला होगा जिसमे किसी स्वास्थ्यकर्मी को वैक्सीन के दोनों डोज लग गए हो और उसके बावजूद भी उसकी मौत कोरोना से हो गई हो। गुरुवार को  मलेरिया विभाग में फिल्ड वर्कर के रूप में पदस्थ हाटकेश्वर कालोनी निवासी 55 साल के  रामराव  की कोरोना से मौत हो गयी , रामाराव  को  को आठ दिन पहले ही वैक्सीन का दूसरा डोज लगा था ।इस से पहले उन्होंने 9 फरवरी को पहला डोज लगवाया था, जिसके बाद 8 मार्च को दूसरा डोज लगवाया था।

कोरोना पॉजिटिव थे रामाराव

इसके बावजूद वैक्सीन लगवाने के दो दिन बाद ही १० मार्च को ही उनकी तबियत बिगड़ी। रामाराव को बुखार , हाथ -पैर में दर्द के साथ सांस लेने में तकलीफ होने लगीऔर उनको 18 मार्च को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया गया। जिसके बाद 21 मार्च को उनको माधव नगर अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया।कोविड टेस्ट करवाने पर उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी इसके बाद उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। जिसके बाद 25 मार्च को वेंटिलेटर पर रखा गया और गुरुवार 25 मार्च को उनकी मौत हो गयी।