/////

67 बीघा जमीन को लेकर हुआ विवाद, गांव में बने सांप्रदायिक तनाव के हालात

राव हिमावत सिंह झाला ने कहा कि 30 पीढ़ियों से हम जमीन पर खेती कर रहे हैं।

उज्जैन: शहर से 18 किलोमीटर दूर नरवर में रविवार को इंदौर से आए लोगों द्वारा 67 बीघा विवादित जमीन को जोतने से सांप्रदायिक तनाव के हालात बन गए। चार ट्रैक्टर और पांच फोर व्हीलर से आए लोगों ने जमीन पर जैसे ही ट्रैक्टर चलाने शुरू किए तो गांव वाले भड़क गए। गांव में तनाव की जानकारी मिलते ही एएसपी डा. रवींद्र वर्मा, एसडीएम जगदीश मेहरा और तहसीलदार योगेश मेश्राम घटनास्थल पर पहुंचे। इन्होंने जमीन पर कब्जा कर रहे लोगों को मौके से हटाया।

इंदौर से कब्जा करने आए थे 50 लोग

दरअसल सारा विवाद 67 बीघा जमीन की जोत को लेकर शुरू हुआ । इस जमीन पर नरवर के राव हिमावतसिंह झाला काबिज है। चर्चा यह है इंदौर के इस्लाम पटेल के नाम पर कुछ दिन पहले यह जमीन हो चुकी है। इस्लाम पटेल जमीन पर कब्जा करने एवं खरीफ फसल की बुवाई करने के लिए इंदौर से रविवार को भारी लवाजमा लेकर पहुंचे तो नरवर के लोग भड़क गए। उन्होंने लवाजमें को रोकने की कोशिश तो मारापीट जैसे हालात बन गए। गांववालों ने पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को सूचना दी तो वह मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की।

गांव में हुआ तनाव

इस बीच इंदौर से आए लोगों को समझा-बुझाकर रवाना कर दिया गया। बावजूद इसके गांव में तनाव के हालात बन गए। हालांकि अधिकारियों ने गांव में तनाव नहीं होने की बात कही हैं। पूर्व सरंपच रामचरण मालिया ने बताया कि जमीन राव हिमावतसिंह झाला की है। कब्जा भी झाला का ही है। जमीन पर स्टे भी है। बावजूद इसके इंदौर के इस्लाम पटेल और उनके बेटे अंजुम पटेल पचास से ज्यादा लोगों के साथ आए और हथियार के बल पर जमीन जोतने लगे। हथियारों से लैस इन लोगों ने गांववालों को धमकाया। हमने ही पुलिस बुलाई और तब जाकर सबको खदेड़ा।

दोनों पक्षों ने कब्जे का किया दावा

सबसे बड़ी बात यह है कि रविवार को फुल लाकडाउन था और इसके बावजूद गांव में पचास से ज्यादा बाहरी लोग कैसे आ गए। राव हिमावत सिंह झाला ने कहा कि 30 पीढ़ियों से हम जमीन पर खेती कर रहे हैँ। कुछ साल पहले इस्लाम पटेल ने जमीन अपनी होने का दावा किया था। तब मामला रेवन्यू एवं सिविल कोर्ट में चला गया । अभी तक इस पर फैसला नहीं आया है। बावजूद इसके जमीन पर जबरन बोवनी करने के लिए इस्लाम और उनका बेटा अंजुम पटेल पचास से ज्यादा हथियारबंद लोगों के साथ आया था।

झाला ने स्थानीय पुलिस पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि टीआई मैडम उन पर कार्रवाई करने के बजाय हम लोगों को जमीन से हटाने पर लगी है, जबकि कार्रवाई उन लोगों पर होनी चाहिए थी। एसडीएम जगदीश मेहरा ने बताया दो पक्षों में जमीन के टाइटल का विवाद है। जमीन इस्लाम पटेल के नाम पर है। हालांकि उसका कब्जा नहीं है। दोनों पक्षों को समझाया है। एएसपी रवींद्र वर्मा ने कहा कि दोनों पक्षों को समझा दिया है कि मामला सिविल एवं रेवेन्यू कोर्ट में हैं। वहां से फैसला आने का इंतजार करें। अगर गड़बड़ी करेंगे तो ठीक नहीं होगा।