कोरोना का साया पतंग व्यापर पर, कोरोड़ों से लाखों में सिमटा बाजार

Start

उज्जैन।  कोरोना का साया पतंग व्यापर पर भी दिखाई दे रहा है। उज्जैन के तोपखाना क्षेत्र का पतंग बाजार खाली पड़ा है। दुकानदार पतंगों के माध्यम से कोरोना से बचने का संदेश दे रहे है। मास्क नही तो पतंग नही। चुनावी मौसम को देखते हुए नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के पतंग भी मार्केट में छाई रही।

मकरसंक्रांति का पर्व बड़े ही हर्षोल्लास के साथ महाकाल की नगरी में मनाया जाता है। मकर संक्रांति के दिन बड़े बुजर्गो से लेकर हर उम्र के बच्चो में पतंगबाजी का उत्साह नजर आता है अहमदाबाद के बाद केवल उज्जैन का पतंग पूरे देश मे बिकने जाता था। लेकिन कोरोना के बाद से इसमे भी असर दिखने को मिला है।

पतंग के व्यापारी का कहना है कि कुछ सालों पहले उज्जैन की पतंगे पूरे देश मे बिकती थी। लेकिन अब अहमदाबाद के बाद जयपुर भी एक पतंग की अच्छी मंडी बन गया है और उज्जैन का पतंग मार्केट कोरोड़ो से लाखों में सिमट कर रह गया है।

उज्जैन के आसपास के क्षेत्रों में तो आज भी शहर की पतंगबाजी का उत्साह ऒर माहौल से बना देता है मकर संक्रांति के दिन शहर में हर छतों पर आसमान तक पतंग उत्सह की धूम छाई रहती है बच्चो से लेकर हर वर्ग तक पतंग उड़ाने के लिए अपने परिवार के साथ पतंग उड़ाने में मस्त रहता है। लेकिन पतंग से सजे मार्केट में इस बार कोरोना का साया नजर आ रहा है।

उज्जैन से मृदुभाषी के लिए अमृत बैंडवाल की रिपोर्ट।