////

इंदौर नगर निगम की बुजुर्गों पर अमानवीयता के मामले में कांग्रेस ने आईजी से की शिकायत

गरीब बुजुर्गों को शहर की सीमा पार छोड़ने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इसी को लेकर शनिवार को कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता डीआईजी ऑफिस पहुंचे और आईजी हरिनारायण चारी मिश्र से मुलाकात कर 10 बुजुर्गों के लापता होने की जानकारी देते हुए दोषी निगम कर्मचारी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

दरअसल शुक्रवार को एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें सड़कों पर रहकर जीवन यापन कर रहे हैं गरीब और बेसहारा लोगों को निगम की गाड़ी में भरकर शहरी सीमा के बाहर छोड़ा जा रहा था, हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद इसका विरोध भी शुरू हो गया. इसी को लेकर शनिवार को कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला, पु्र्व नेता प्रतिपक्ष फोजिया शेख सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता डीआईजी कार्यालय पहुंचे। इंदौर आईजी से मुलाकात कर कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि रेन बसेरे में मात्र 4 लोग ही पहुंचे हैं बल्कि 10 लोग अभी भी लापता है जिनकी जानकारी नहीं लग पाई है। ऐसे में कांग्रेस नेताओं ने इंदौर आईजी से उक्त बुजुर्गों को ढूंढने के साथ ही दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

शहर की साख राष्ट्रीय स्तर पर धूमिल हुई – संजय शुक्ला
कांग्रेस नेताओं के साथ कुछ बुजुर्ग भी डीआईजी कार्यालय पहुंचे थे जिन्होंने मीडिया को बताया कि किस तरह उन्हें शहरी सीमा के बाहर छोड़ा जा रहा था और विरोध होने पर उन्हें रेन बसेरा लाया गया। लेकिन मात्र 4 लोग ही रेन बसेरा पहुंच पाए हैं। बाकी लोगों को निगम कर्मचारी रास्ते में उतारते हुए आए। वहीं विधायक संजय शुक्ला ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा की इस घटना के बाद इंदौर शहर की साख राष्ट्रीय स्तर पर धूमिल हुई है। संजय शुक्ला ने कहा की आगामी दिनों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शहर में होंगे जिनका घेराव किया जाएगा।

इस मामले में इंदौर आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा ने ज्ञापन लेने के साथ ही मामले की जांच कराने उसके बाद कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया। कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष रहे फोजिया शेख ने इस मामले की निंदा करते हुए बीजेपी नेताओं पर जमकर हमले बोले। उन्होने कहा की बीजेपी के नेता सत्ता पाने के लिए अपने माता-पिता को भी शहरी सीमा के बाहर छोड़ आएंगे।