////

कोरोना वैक्सीन के बाद बूस्टर डोज के संबंध में केंद्र सरकार ने कही यह बात

Start

Corona Vaccine: देश में कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच हर शख्स की निगाहें कोरोना की वैक्सीन पर टीकी हुई है। हर कोई इस बात को लेकर आश्वस्त नजर आ रहा है कि कोरोना का टीका लग जाने के बाद वह कोरोना वायरस की चपेट में नही आएगा, लेकिन अब इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या वैक्सीन के दो डोज लग जाने के बाद इंसान के शरीर में सुरक्षा कवच तैयार हो जाएगा या उसको बूस्टर डोज की जरूरत भी पड़ेगी।इसका जवाब दिया है केंद्र सरकार ने।

वैक्सीन शत-प्रतिशत सुरक्षा नहीं

देश में फिलहाल इस बात पर रिसर्च किया जा रहा है कि कोरोना से निपटने के लिए वैक्सीन की दो खुराक पर्याप्त है या इसके बूस्टर डोज की भी जरूरत पड़ेगी। इसका जवाब केंद्र सरकार ने गुरुवार को दिया और कहा कि कोई भी टीका वायरस से शत प्रतिशत सुरक्षा इंसान को नहीं दे सकता। बूस्टर खुराक की जरूरत को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ.वीके पॉल ने कहा कि यदि इसकी जरूरत होगी तो उसकी जानकारी लोगों को दी जाएगी।

बूस्टर डोज पर चल रहा है रिसर्च

डॉ.वीके पॉल ने कहा कि टीकाकरण अभियान के तहत हम हर व्यक्ति का टीकाकरण करना चाहते हैं, जिससे वह कोरोवा वायरस से सुरक्षित रहे। बूस्टर डोज के संबंध में उन्होंने कहा कि इस संबंध में रिसर्च चल रहा है और उचित समय पर इस संबंध में जानकारी दी जाएगी। कोवैक्सिन का इस के लिए परीक्षण चल रहा है कि क्या छह महीने के बाद बूस्टर खुराक लेने की जरूरत है या नहीं। कोविड-19 से सुरक्षा के संबंध में उन्होंने कहा कि टीके की दो खुराक लीजिए और कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन कीजिए। आप गंभीर बीमारी से सुरक्षित हैं लेकिन सतर्क रहें। यह सुरक्षा शत-प्रतिशत नहीं है।