////

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के खिलाफ हुआ मामला दर्ज, जानिए वजह

मंत्रियों पर विभागों में तबादला उद्योग शुरू करने का लगाया आरोप।

भोपाल। पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा के खिलाफ बुधनी के गोपालपुर थानें में मामला दर्ज किया गया है। सज्जन सिंह वर्मा ने नसरुल्लागंज में एक पुल का उद्घाटन कर उसको आम जनता के लिए खोल दिया था।

जनता की परेशानी का दिया था हवाला

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के खिलाफ एक पुल का उद्घाटन करने के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है। इस पुल का उदघाटन दो दिनों के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान करने वाले थे, लेकिन सज्जन सिंह वर्मा जब वहां से गुजर रहे थे तो उन्होंने उसको आम जनता की तकलीफ का हवाला देते हुए उदघाटन कर दिया था। उनका कहना है कि जहां आम जनता को आवागमन में परेशान हो रही थी और पुल के उद्घाटन के लिए मुख्यमंत्री का इंतजार किया जा रहा था इसलिए उन्हें जनता की समस्या को देखते हुए खुद ही पुल का उद्घाटन कर दिया।

कांग्रेस बनाएगी रणनीति

मुकदमा दर्ज होने के बाद अब इस मामले में भोपाल में राष्ट्रीय महासचिव के साथ आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी। मध्यप्रदेश में मंत्रियों के प्रभार बदले जाने पर वर्मा ने कहा कि मंत्रियों ने अपने विभागों में तबादला उद्योग भी शुरू कर दिया है। कांग्रेस की सरकार में जो तबादला उद्योग का आरोप लगाते थे अब उनकी सरकार में क्या हो रहा है? वहीं उन्होंने बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के भोपाल और दिल्ली में बढ़ती हुई सक्रियता पर कहा कि विजयवर्गीय को डर है कि कहीं सिंधिया को केंद्रीय मंत्री ना बना दिया जाए इसलिए वे हाथ पैर मार रहे हैं। साथ ही खंडवा से सांसद के उपचुनाव को लेकर विजयवर्गीय को टिकट देने की बात पर उन्होंने कहा कि वह खुली चुनौती देते हैं कि वे खंडवा से चुनाव लड़कर जीत कर बताएं ।

नेमावर हत्याकांड को लेकर बनी रणनीति

नेमावर में हुए हत्याकांड को लेकर कांग्रेस द्वारा बनाई गई जांच समिति के अध्यक्ष भी सज्जन सिंह वर्मा को बनाया गया है। उन्होंने कहा कि इस हत्याकांड के परदे के पीछे कौन है कांग्रेस उन्हें सामने लेकर आएगी वह लोग जो इस पूरे मामले की जांच को दबाने के लिए पुलिस को ज्ञापन देने गए थे। ऐसे लोगों को कांग्रेस सामने लाएगी ।