///

Ayodhya Ram Mandir: 4 लाख गांवों में 11 करोड़ परिवारों से लिया जाएगा सहयोग

धनराशि संग्रह का काम मकर संक्रांति से शुरू होगा।

भोपाल। विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारणी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए सरकार से कोई भी सहायता नही ली जाएगी और जनसहयोग से इसको भव्य आकार दिया जाएगा।

जनसहयोग से होगा मंदिर निर्माण

विश्वहिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारणी अध्यक्ष आलोक कुमार का कहना है कि मंदिर निर्माण के लिए हिन्दू समाज से धन संग्रह का काम शुरू हो चुका है और इसके लिए विश्व हिंदू परिषद ने यह निर्णय लिया है कि सरकार से इसके लिए कोई भी सहायता नहीं ली जाएगी। इस कार्य के लिए हमने 4 लाख गांवों में 11 करोड़ परिवारों तक पहुँचने का लक्ष्य रखा था, लेकिन अब ऐसा लगता है कि हम लक्ष्य से ज़्यादा संपर्क कर सकते है तो वहीं सिर्फ मध्यप्रदेश में 50,000 से अधिक गाँव में पहुंचेंगे, जहां लगभग 1.25 करोड़ परिवारों द्वारा समर्पण राशि दी जाएगी। इस कार्य के लिए जितने भी समाज के बंधु है वे अपना सहयोग प्रदान करें।

108 एकड़ भूमि की है ज़रूरत

उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि पर सिर्फ मदिर निर्माण ही नहीं होगा, वहां पर संग्रहालय, कथा स्थल, लंगर भवन,वाचनालय, रिसर्च सेंटर आदि का भी निर्माण किया जाएगा। इस निर्माण के लिए 70 एकड़ ज़मीन कम पड़ रही है इसलिए 108 एकड़ भूमि की ज़रूरत है जिसको वहाँ के स्थानीय लोगो से बात करके पूरा किया जाएगा। श्री राम जन्मभूमि के सहयोग में 10, 100 और 1,000 रुपए की राशि ऐप के माध्यम से ट्रांसफर कर सकते है,तो वही 2000 या उससे ज़्यादा की राशि रसीद या चेक से स्वीकार की जाएगी। राशि संग्रह का काम मकर संक्रांति से शुरू होगी जो माघ पुर्णिमा तक चलेगा।