अधिकारियों के इस कदम की जानकारी भाजपा के नेताओं को भी नहीं थी।
//

विरोध के आगे झुका प्रशासन, टैक्स बढ़ोतरी पर कही ये बात

इंदौर। इंदौर में जनता के विरोध के बाद आखिरकार नगर निगम को बैकफूट पर आना पड़ा। जल कर, कचरा संग्रहण शुल्क और सीवरेज टैक्स में बढ़ोत्तरी को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने प्रेसवार्ता कर इस बात की जानकारी दी।

टैक्स में की गई थी बढ़ोतरी

इंदौर नगर पालिका निगम ने 1 अप्रैल से जल कर, कचरा संग्रहण शुल्क और सीवरेज टैक्स में बढ़ोत्तरी करते हुए इसे दोगुना कर दिया था, जिसकी वजह से करदाता की जेब पर सीधे तौर पर हर महिने एक हजार रुपए का भार पड़ने वाला था। निगम के फैसले को लेकर कांग्रेस ने जहां मोर्चा खोल दिया था, वहीं भाजपा विधायक और नेता भी लगातार निगम की कर वृद्धि का विरोध कर रहे थे। लिहाजा, जनभावना को देखते हुए आखिरकार जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट को सामने आकर घोषणा करनी पड़ी कि मुख्यमंत्री और नगरीय प्रशासन मंत्री से आग्रह के बाद टैक्स में बढ़ोत्तरी के फैसले को स्थगित कर दिया गया है।

अधिकारियों ने लिया था मनमाना फैसला

अधिकारियों के इस कदम की जानकारी भाजपा के नेताओं को भी नहीं थी, जिसकी वजह से उन्हें खासी फजीहत का भी सामना करना पड़ा। भाजपा नेताओं का कहना है कि शिवराज सरकार संवेदनशील सरकार है। इंदौर की जनता पर किसी तरह की बोझ नहीं डाला जाएगा। पूर्व महापौर और विधायक मालिनी गौड़ ने इस बात को माना कि अधिकारियों को जनतिनिधियों के संज्ञान में लाने के बाद ये फैसला लिया जाना चाहिए था।