////

उज्जैन पुलिस ने चेकिंग के दौरान किया स्मैक गैंग का पर्दाफाश, लाखों के नशीले पदार्थ जप्त

इस रैकेट के तार राजस्थान के अन्य जिलों तक में फैले हुए हैं

उज्जैन: उज्जैन पुलिस को चेकिंग के दौरान उस वक्त बड़ी सफलता हाथ लगी जब पुलिस ने आधा दर्जन से ज्यादा आरोपियों को गिरफ्तार कर लाखों रुपए मूल्य का नशीला पदार्थ बरामद किया।

लंबे समय से कर रहे थे अवैध कारोबार

उज्जैन शहर में पिछले कुछ समय से पुलिस ने नशीले पदार्थ की बड़ी मात्रा जप्त की है। कुछ दिन पहले की बात करें तो उज्जैन से बड़ी मात्रा में अवैध शराब का जखीरा बरामद हुआ था। उसके बाद से उज्जैन पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला ने लगातार सघन चेकिंग का अभियान चला रखा था। हालांकि जनता कर्फ्यू जैसे माहौल में भी स्मैक का कारोबार करने वाले आरोपी इतने शातिर थे कि वह थाना सर्कल के सीएसपी और थाना प्रभारियों और पुलिसकर्मियों की आंखों में धूल झोंक कर लंबे समय से इस कारोबार को अंजाम दे रहे थे।

राजस्थान से जुड़े हैं तार

स्मैक का धंधा करने वाला यह गिरोह युवा पीढ़ी को स्मैक की लत लगाकर अपनी और आकर्षित कर रहा था। इसकी भनक जब उज्जैन पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला को लगी तो उन्होंने तत्काल घेराबंदी करवा कर तोप खाना क्षेत्र से 95 ग्राम स्मैक जप्त की। जप्त स्मैक की कीमत लगभग 50 लाख रुपए बताई जा रही है। उज्जैन पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला का कहना है कि इस रैकेट के तार राजस्थान के अन्य जिलों तक में फैले हुए हैं और वह इसको लेकर राजस्थान पुलिस के संपर्क में भी हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि वे किसी भी हालत में धार्मिक नगरी उज्जैन में किसी भी प्रकार के नशे के कार्यभार को फलने फूलने नहीं देंगे पकड़े गए आरोपियों के निशानदेही पर अन्य आरोपियों की धरपकड़ के लिए अलग अलग टीम बनाकर रवाना कर दी गई है। हालांकि इस पूरी कार्रवाई के दौरान स्थानीय थानों की नेटवर्क को भी कमजोरी माना जा रहा है अगर पुलिस नेटवर्क बेहतर होता उसका मुखबिर तंत्र मजबूत होता तो कोई आरोपी इतने लंबे समय तक जनता कर्फ्यू के दौरान भी स्मैक का कारोबार नहीं कर पाते।