/

इंदौर में निगम कर रहा एसटीपी प्लांट द्वारा तालाबों का लेवल मेंटेन

इंदौर में निगम द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण के मद्देनजर पिछले मानसून में शहर के बड़े तालाबों की साफ-सफाई कर उन्हें सुंदर बनाया गया था। मानसून में इन तालाबों में भारी मात्रा में पानी एकत्रित होने के लिए गहराई बढ़ाते हुए अधिक जल जमा हो ताकि गर्मियों में पानी की किल्लत से शहर वासियों को निजात दिलाई जा सके तो वहीं जिन तालाबों में पानी का लेवल कम है वहां पर एसटीपी के माध्यम से लेवल मेंटेन किया जा रहा है ।

शहर के छोटे बड़े कई तालाबो का लेवल अच्छा नजर आ रहा

शहर में निगम द्वारा गर्मि के दिनों में पानी की किल्लत को दूर करने को लेकर जहां एक और अमृत योजना के तहत 28 पानी की टंकी का निर्माण किया गया था तो वहीं भू-जल के लेवल को स्थिर रखने के उद्देश्य से तालाब के आसपास स्वच्छता के साथ गहराई पर भी विशेष ध्यान दिया गया था जिसका नतीजा यह हुआ कि भारी गर्मी में भी शहर के छोटे बड़े कई तालाबो का लेवल अच्छा नजर आ रहा है ।

निगमायुक्त ने कहा वाटर टेस्टिंग प्रोसेसिंग द्वारा पानी पहुंचाया जा रहा

निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि बड़े तालाबों में पिपलियाहाना तालाब सहित बिलावली तालाब में पर्याप्त वाटर लेवल को लेकर पिछले कुछ वर्षों से तालाबों के संरक्षण के लिए निगम द्वारा बनाई गई कार्य योजना अब कार्यसिद्ध हो रही है। गर्मियों में तालाबों का पानी लेवल कम हो जाता था जो कि अब ऐसा नही है सभी तालाबों में वॉटर लेवल सही है और जिन तालाबों में लेवल कम हुआ है वहां निगम द्वारा वाटर टेस्टिंग प्रोसेसिंग करके पानी पहुंचाया जा रहा है यह ट्रीटेट वाटर होता है इस प्रोसेस से भूजल का लेवल मेंटिनेंस का काम किया जा रहा है ।