आवास खाली कराने को लेकर उज्जैन के कुलपति ने एक कमेटी बनाई है।
///

सरकारी आवास पर राजनेताओं के कब्जे को लेकर मचा बवाल, यूनियन ने उठाया ऐसा कदम

उज्जैन: विक्रम विश्व विद्यालय के सरकारी आवास पर कई राजनेता पुलिस अधिकारी ,प्रशासनिक अधिकारी और पूर्व सांसद विधायकों के कब्जे से नाराज होकर विश्व विद्यालय के शिक्षक संघ के पदाधिकारीयो ने मिलकर विक्रम विश्व विद्यालय के ई -2  बंगले पर  लगे ताले को तोड़ कर खुद का ताला लगा दिया। दरअसल इससे पहले कर्मचारियों ने इकट्ठा होकर विक्रम विश्व विद्यालय के गेट पर प्रदर्शन किया और कुलपति अखिलेश पांडेय से जल्द ही सभी गैर कर्मचारियों को आवंटित बंगले और घर खाली कराने की मांग की । प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस विधायक महेश परमार को आवंटित बंगले पर लगा ताले को तोड़कर अपना ताला लगा दिया। आवास खाली कराने को लेकर उज्जैन के कुलपति ने एक कमेटी बनाई है जो कब्जे किए गए हैं उनकी सूची तैयार करेगी। 

सरकारी बंगलों पर नेताओं का कब्जा

मध्यप्रदेश में विश्वविद्यालयों के कई आवासीय घरों पर अन्य नेता राजनेता अधिकारी पुलिस अधिकारियों ने जबरन कब्जा कर रखा है जिसको लेकर पिछले माह राज्यपाल ने बंगले खाली करवाने का आदेश भी जारी किए हैं।  राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने अभी कुछ दिन पहले ही प्रदेश के सभी विश्व विद्यालयों को  आदेश जारी किया था की जल्द ही एक सूची बनाकर चिन्हित किया जाए की विश्व विद्यालय के बंगले और सरकारी आवास में कोई अन्य अधिकारी राजनेता तो नहीं रहा रहा है और अगर ऐसा है तो उसे जल्द ही खाली करवाकर विश्व विद्यालय के कर्मचारियों को इसे आवंटित करे।

पूर्व सांसद चिंतामणि मालवीय के पास सरकारी बंगला

इस आदेश के बाद भी  कई सालो से  अधिकारी, कर्मचारी राजनेता, छात्र संघ के नेता सहित अन्य बाहर के लोग इन आवासों पर कब्जा करके बैठे हुए है उज्जैन विक्रम विश्व विद्यालय  की सूत्रों की माने तो सरकारी आवास कब्ज़ा करने में सत्ता धारी पार्टी के पूर्व  सांसद और कांग्रेस से तराना विधान सभा के विधायक महेश परमार भी शामिल है।  सन 2014 में हुए लोक सभा चुनाव में बीजेपी से उम्मीदार सांसद चिंतामणि मालवीय को कोठी पैलेस के पास वाला बंगला अलॉट हुआ था। 2019 में चिंतामणि मालवीय को टिकट नहीं मिला, जिसके बाद भी वे पूर्व सांसद के रूप में करीब 2 सालो से बंगले पर  कब्ज़ा किये हुए है।

विधायक महेश परमार के पास है सरकारी बंगला

 वही तराना से कांग्रेस के विधायक और छात्र नेता रहे महेश परमार ने भी E-2 बंगले पर कब्ज़ा किया हुआ है। आज इसी बंगले का तोड़कर शिक्षक संघ ने अपने कब्जे में किया है। शिक्षक संघ के अध्यक्ष कानिया मीणा  ने बताया की 184 आवास में से करीब एक दर्जन सरकारी आवास पर दुसरों का कब्जा है।  आज जब E-2 बंगले पर किसी पुलिस अधिकारी के शिफ्ट होने की जानकारी मिली तो शिक्षक संघ ने कुलपति के सामने प्रदर्शन शुरू कर दिया और नारे बाजी करते हुए सभी कब्ज़ा धारियों से मकान खाली कराने की मांग की इसके बाद E-2 बंगले पर लगे ताले को तोड़कर कर्मचारियों ने अपना ताला लगा दिया। इधर कुलपति ने आवास आवंटन को लेकर रिपोर्ट तलब की है और जल्द ही कब्जा धारियों को नोटिस थमाकर आवास खाली कराने की बात कही है