/

Taliban: मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद बने प्रधानमंत्री, अफगानिस्तान का नाम हुआ ‘इस्लामिक अमीरात’

Taliban, Mullah Mohammad Hassan Akhund, Islamic Amirat, Mullah Yaqub, Sirajuddin Haqqani, Zabihullah Mujahid, तालिबान, अफगानिस्तान, इस्लामिक अमीरात, मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद, मुल्ला याकूब रक्षा मंत्री, सिराजुद्दीन हक्कानी, ज़बीहुल्लाह मुजाहिद,

Taliban: अफगानिस्तान में तालिबान के काबिज होने के बाद 7 सितंबर मंगलवार को तालिबान ने अंतरिम सरकार के गठन का एलान कर दिया और कहा कि अब अफ़ग़ानिस्तान का नाम ‘इस्लामिक अमीरात’ होगा। इस्लामिक अमीरात की बागडोर तालिबान के संस्थापकों में से एक मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद को सौंपी गई है। हसन अखुंद प्रधानमंत्री होंगे और पद के प्रबल दावेदार मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर को उप प्रधानमंत्री बनाया गया है। इस बात की जानकारी तालिबान के प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी।

अब्दुल ग़नी बरादर बने उप प्रधानमंत्री

मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर के अलावा अब्दुल सलाम हनफी को भी उप प्रधानमंत्री बनाया गया है। तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर के बेटे मुल्ला याकूब रक्षा मंत्री का जिम्मा सौंपा गया है। वहीं पाकपरस्त सिराजुद्दीन हक्कानी गृह मंत्री होंगे। विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी आमिर ख़ान मुत्तक़ी को दी गई है। भारत में सैन्य ट्रेनिंग लेने वाले शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई को उप विदेश मंत्री का प्रभार सौंपा गया है। तालिबान के शासन के दौरान मुख्य न्यायधीश रहा अब्दुल हकीम हक्कानी को न्याय मंत्री बनाया गया है। सिराजुद्दीन हक्कानी को अमेरिका ने मोस्ट वांटेड आतंकी घोषित किया हुआ है। कई आतंकी घटनाओं में इसके आतंकी संगठन का हाथ रहा है।

शूरा परिषद देखेगी कामकाज

तालिबान के प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद ने अंतरिम सरकार की जानकारी देते हुए बताया कि मुल्क के लोग बड़ी बेसब्री से नए निजाम का इंतजार कर रहे हैं इसलिए यह ये अस्थाई व्यवस्था सरकार का कामकाज चलाने के लिए की जा रही है। फिलहाल अभी शूरा परिषद यानी मंत्रिमंडल कामकाज देखेगी और फिर आगे तय किया जाएगा कि भविष्य की सरकार की रूपरेखा कैसी रहेगी। पहले मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर प्रधानमंत्री पद की रेस में सबसे आगे थे, लेकिन पाकिस्तान की शह पर उनके पर कतर दिए गए और उनकी जगह हसन अखुंद को सत्ता सौंप दी गई।