आरोप है कि बर्फ पर खड़ा करने के बाद पिटाई की।
////

ऑक्सीजन सिलेंडर चुराने के आरोप में पांच लोगों की मालिक ने की निर्दयता से पिटाई

इंदौर: शहर के कुम्हेडी में प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर चुराने के आरोप में पांच कर्मचारियों के साथ मालिक, उसकी बेटी, मैनेजर औऱ चाय वाले ने रातभर निर्दयतापूर्वक पिटाई की है। सजा के तौर पर बर्फ पऱ खडा किया और मुंह में मिर्ची डाल-डालकर पीटते रहे। सुबह परिजन पहुंचे तो आऱोपियों ने उन्हें छोड़ा।

दो सिपाहियो पर भी मारपीट का आरोप

पीड़ितों ने इस मामले में दो सिपाहियो पर भी मारपीट का आरोप लगाया है। इसमें पुलिस बाणंगगा पुलिस ने 20 साल के राज वर्मा की शिकायत पर संचालक भंवरलाल शेखावत, उसकी बेटी कोमल, मैनेजर धीरज औऱ चाय वाले पप्पू के खिलाफ मारपीट की साधारण धाराओं में केस दर्ज किया है। दरअसल इंदौर के पाटनीपुरा के लालापुरा में रहने वाले राज और नेहरू नगर गली नंबर 1 में रहने वाले चिराग वर्मा ने बताया कि हम दोनों भंवरलाल शेखावत के कुमेड़ी स्थित बी.आर.जे. कॉरपोरेशन प्लांट में काम करते हैं। हम 12 मई की रात 10 बजे काम पर पहुंचे। जैसे ही अंदर पहुंचे तो हमें एक हाल में ले जाया गया। यहां पर बाणगंगा थाने के दो सिपाही भी मौजूद थे।

मालिक की बेटी पर पिटाई का आरोप

इनके अलावा प्लांट का मालिक, उसकी बेटी कोमल, मैनेजर धीरज, चाय वाला पप्पू सहित 15-20 लोग मौजूद थे। अंदर ले जाते ही हमें जानवरों की तरह पीटा गया। फिर आधा घंटे बाद पुलिस वाले चले गए। इसके बाद हमें ये चार नामजद लोग अंदर वाले कमरे में ले गए। यहां पर फिर से हमें पीटना शुरू किया। हम दोनों गुहार लगाते रहे, लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। मालिक की बेटी तो प्लास्टिक के पाइप से लगातार पीट रही थी। फिर हमें बर्फ पर खड़ा कर दिया और बाल बी नोचे। राज की पीठ पर खूब मारा। बर्फ पर खड़ा करने के बाद फिर उन्होंने हमारे मुंह में मिर्ची डाली, उसके ऊपर से बरफ ठूंस दिया। बोले चिल्लाए या मिर्ची फेंकी तो खत्म कर देंगे।

वीडियो बनाने का आरोप

रात 2 बजे हमारे साथ काम करने वाले रवि नंदवाल निवासी पाटनीपुरा, अनिकेत और दिव्यांश दोनों निवासी गांधी नगर पहुंचे। फिर इन तीनों के साथ भी वैसी ही पिटाई की जो हमारे साथ की। हम चिल्लाते रहे, गिड़गिड़ाते रहे, लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। हम पर चोरी का आरोप लगाकर लगातार पीटा जा रहा था। आखिर सुबह जब हमारे घर वाले प्लांट पर पहुंचे तो हमें छोड़ा गया। हम सीधे थाने पहुंचे। वहां टीआई ने प्लांट वाले को धमकाया औऱ फिर मामुली धाराओं में केस दर्ज कर के हमें रवाना कर दिया। इस दौरान जो रिपोर्ट लिखी है वह भी उन्हीं पुलिस वालों ने लिखी है, उन्होंने रिपोर्ट लिखने के दौरान हमारा वीडियो भी बना लिया, जैसे कि हम आरोपी हैं। जबकि पुलिस ने अभी तक उनको नहीं पकड़ा, जिन्होंने हमें पीटा है।