//

मध्य प्रदेश में भी शुरू हुआ कृषि बिल का विरोध, बताया किसान विरोधी

प्रदेश के किसान भी नए बिल को लेकर अपनी नाराजगी जता रहे है।

इंदौर। कृषि बिल के विरोध में देशभर के किसान सरकार का विरोध कर रहे हैं। पंजाब, हरियाणा और राजस्थान समेत देश के कईं राज्यों से किसान दिल्ली में आंदोलन पर उतर आए हैं। किसान आंदोलन का प्रभाव अब मध्य प्रदेश मे भी दिखाई दे रहा है। प्रदेश के इंदौर में किसानो से मृदुभाषी ने ख़ास बातचीत की जहां उनकी नाराजगी साफ़ दिखाई दी।

कृषि बिल को लेकर हज़ारों किसानों ने दिल्ली की ओर कूच कर रखा है तो वहीं अब इसकी चिंगारी पूरे देश में दिखाई देने लगी है। मध्यप्रदेश के भी कई जिले भी किसान आंदोलन के प्रभाव में नजर आ रहे हैं। इंदौर जिले के आस-पास के गांव में भी सैकड़ों किसान केंद्र सरकार के कृषि बिल को लेकर खासे नाराज़ है। किसान बिल को लेकर युवा किसानों का कहना है कि बिल में जो भी कानून है वह बिल्कुल भी किसानों के हित में नहीं है। क्योंकि यदि किसानों की जमीन को पूरी तरह से बिल के माध्यम से निजीकरण कर दिया जाएगा तो फिर किसान एक बार फिर पूंजीपतियों के लिए एक बंधुआ मजदूर बनकर रह जाएगा।

वहीं प्रधानमंत्री मोदी भी कृषि बिल को लेकर सोशल मीडिया से लेकर रेडियो पर मन की बात में कई बार जिक्र कर चुके हैं। और उसके फ़ायदे गिना रहे हैं। लेकिन किसानो का विरोध फिलहाल चरम पर है।