///

एमपी में अब इन शिक्षकों की नौकरी पर मंडराया खतरा, हड़ताल पर जाने की हो रही तैयारी

अतिथि शिक्षक

इंदौर. ग्रामीण क्षेत्रों में सैकड़ों की संख्या में अतिथि शिक्षकों का दर्जा पाने वाले अतिथि शिक्षकों के रोजगार पर खतरा मंडराने लगा है। हाल ही में एक फरमान जारी कर सरकार ने इन शिक्षकों को सख्ते में डाल दिया है, जिसके बाद सभी ने सरकार के खिलाफ अपनी आवाज उठाना शुरू कर दिया है।

एमपी में लगातार आंदोलनों का दौर जारी है एक और जहां जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को 8 दिन होने वाले हैं, तो वहीं दूसरी और अतिथि शिक्षक भी दूसरी हड़ताल शुरू करने के मूड में दिखाई दे रहे हैं। अतिथि शिक्षक की भर्ती सरकार ने शिक्षा पद्धति को बेहतर बनाने के उद्देश्य की थी और यह भर्ती बकायदा व्यवसायिक परीक्षा मंडल सरकारी पोर्टल के माध्यम से की गई थी। इस परीक्षा में लाखों लोगों ने एग्जाम दिया था। जिसमें से करीब 3 हजार लोगों का चयन किया गया था। इस बात को आज 4 साल से अधिक हो गए है। अब इनको सरकार एलिजिबिलिटी के नाम पर हटाने की तैयारी में है जिससे अतिथि शिक्षक चिंता में आ गए हैं। सरकार द्वारा लिए जा रहे निर्णय के बाद अतिथि शिक्षक भी हड़ताल पर जाने की तैयारी में हैं। जल्द अगर सरकार के द्वारा सही निर्णय नहीं लिया जाता तो एमपी में एक और हड़ताल दिखने को मिल सकती है।