////

Mukhtar Ansari: 900 किलोमीटर का सफर 16 घंटे में तय कर बांदा जेल पहुंचा गैंगस्टर मुख्तार

Start

बांदा। कुख्यात गैंगस्टर मुख्तास अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद गैंगस्टर मुख्तार को पंजाब से उत्तर प्रदेश की जेल में शिफ्ट किया गया। इससे पहले दोनों प्रदेशों की सरकारों में मुख्तार को शिफ्ट करने को लेकर काफी तनातनी भी हुई।

900 किलोमीटर का सफर 16 घंटे में तय

पंजाब की रोपड़ जेल से निकलकर करीब 900 किलोमीटर का सफर 16 घंटे में तय करने के बाद कुख्यात गैंगस्टर मुख्तास अंसारी को बांदा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। सुबह 4.30 बजे पुलिस का काफिला मुख्तार अंसारी को लेकर बांदा जेल पहुंचा। इस दौरान तीन बार रास्ता भी बदला गया और जेल आने से एक घंटे पहले पूरी रोड को बैरिकेड कर दिया गया। सूचना मिलने पर काफिल पहुंचने से ठीक 10 मिनट पहले जेल गेट खोल दिया गया। जेल के अंदर सिर्फ मुख्तार की एम्बुलेंस और पुलिस अधिकारियों की दो ही गाड़ियों को जाने दिया गया शेष गाड़ियों को जेल से एक किलोमीटर पहले ही रोक दिया गया।

कानपुर में हुई धक्का-मुक्की

कानपुर में जब मुख्तार का काफिला पहुंचा तो वहां पर कानपुर देहात के सट्टी थाने के पास करीब 15 मिनट के लिए रोका गया। इस दौरान काफिले के साथ चल रहे मीडियाकर्मी मुख्तार की एंबुलेस की तरफ लपके। यहां पर पुलिस और मीडियाकर्मियों में धक्का-मुक्की भी हुई। 15 मिनट बाद काफिला कानपुर नगर के घाटमपुर की ओर रवाना हुआ और वहां से हमीरपुर की और निकल गया। यहां से काफिले ने पैलानी थाना पार किया। इसके बाद आखिरी थाना देहात कोतवाली को क्रास करते हुए 8 किलोमीटर बाद सीधे बांदा जेल पहुंच गया।

5 गेट और 7 कैमरों की नजर से गुजरा मुख्तार

काफिले के बांदा जेल पहुंचने से पहले ही सुरक्षा-व्यवस्था काफी सख्त कर दी गई थी। जेल के बाहर रस्सा लगाकर रास्ता बैरीकेड कर दिया गया था। बांदा जेल में मुख्तार को जेल के 5 गेट और 7 कैमरों की नजर से गुजरते हुए अपनी बैरक नंबर 15 में पहुंचाया गया।