//

Makar Sankranti 2021: इन वस्तुओं के दान का है बड़ा महत्व, मिलता है समृद्धि और मोक्ष का वरदान

Start

Makar Sankranti 2021: मकर संक्रांति के अवसर पर दान-पुण्य, स्नान और सूर्य उपासना का महत्व बतलाया गया है। इसमें दान करने का धर्मशास्त्रों में विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन किया गया दान अक्षय फल प्रदान करता है इसलिए व्यक्ति को अपनी सामर्थ्य के अनुसार यथाशक्ति दान कर पुण्यलाभ लेना चाहिए। इस दिन कुछ विशेष वस्तुओं का दान करने से उत्तम फल की प्राप्ति होती है।

तिल का दान

मकर संक्राति को तिल संक्रांति भी कहा जाता है। मान्यता है कि अपने नाराज पिता सूर्य का क्रोध शांत करने के लिए पुत्र शनिदेव ने काले तिल से उनका घर आगमन पर स्वागत किया था। उस समय सूर्यदेव ने प्रसन्न होकर वरदान दिया था कि जब वह शनि के घर मकर राशि में आएंगे तब तिल से उनकी पूजा और तिल का दान करने से वो अति प्रसन्न होंगे। इस दिन तिल के दान से सूर्यदेव, शनिदेव और भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती हैं। ब्राह्मणों को तिल का दान करना शुभ फल प्रदान करता है।

कंबल का दान

मकर संक्रांति के दिन कंबल का दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। निर्धन और जरूरतमंद को कंबल का दान करने से राहु ग्रह के अशुभ फल का निवारण होता है।

खिचड़ी का दान

इस दिन खिचड़ी के दान का बड़ा महत्व है। पुण्यफल की प्राप्ति के लिए चावल और काले उड़द की दाल की खिचड़ी का दान करने का विशेष महत्व है। अक्षत समस्त देवताओं को प्रिय है और काली उड़द का संबंध शनिदेव से है।

वस्त्र का दान

मकर संक्रांति के अवसर पर वस्त्र के दान से शुभ फल की प्राप्ति होती है। वस्त्र के दान में इस बात का खास ख्याल रहे कि कपड़े कटे-फटे या मलीन न हो। इस तरह के वस्त्र दान करने से दोष लगता है।

शुद्ध घी और गुड़ का दान

शुद्ध घी और गुड़ का संबंध गुरु ग्रह से माना गया है। इस साल मकर संक्राति गुरुवार को मनाई जाएगी, इसलिए बृहस्पतिदेव को प्रसन्न करने के लिए घी और गुड़ के दान का विशेष महत्व है। घी के दान से सुख-समृद्धि के साथ मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन गुड़ और तिल के लड्डूओं का दान के साथ सेवन भी किया जाता है।