////

कासगंज में शराब माफिया ने एक सिपाही की हत्या की, एनकाउंटर में माफिया का भाई ढेर

सीएम योगी ने इस मामले में सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

कासगंज। उत्तर प्रदेश के कासगंज में मंगलवार देर शाम शराब माफिया ने खौफनाक वारदात को अंजाम दिया। कुर्की के लिए नोटिस चस्पा करने गए दरोगा अशोक पाल और सिपाही देवेंद्र कुमार सिंह को बंदी बना लिया। शराब माफिया ने इनमें से एक को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया, जबकि दारोगा की हालत गंभीर है। इसके बाद बुधवार सुबह पुलिस की मुठभेड़ में शराब माफिया मोती के भाई को ढेर कर दिया।

शराब माफिया के भाई को किया ढेर

सिढ़पुरा थाना प्रभारी प्रेमपाल सिंह के मुताबिक शराब माफिया और उसके साथियों की तलाश में पुलिस जुटी हुई थी। इसी दौरान पुलिस को देख माफिया ने गोलियां चलाई जिसके जवाब में पुलिस ने भी कार्यवाई कर दी।मुठभेड़ में शराब माफिया मोती के भाई एलकार सिंह के गोली लगने से मौत हो गई।

सीएम योग ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश

इससे पहले कासगंज के नगला धीमर गांव में शराब का धंधा करने वालों के ठिकाने पर दबिश देने गए सिढ़पुरा थाने के एक दरोगा और सिपाही को माफियाओं ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। उन्होंने पुलिसकर्मियों की वर्दी फाड़ दी और हथियार छीन लिए। घंटों तक तलाशी के बाद दरोगा और सिपाही जंगल में गंभीर रुप से घायल अलग-अलग स्थानों पर मिले। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कासगंज की घटना के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने और गुनाहगारों पर रासुका के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।