///

Kedarnath Dham: शास्त्रोक्त मंत्रों और विधि-विधान के साथ खोले गए केदारनाथ के कपाट

Start

Kedarnath Dham: कोरोना के कहर और लॉकडाउन के सन्नाटे के बीच आज सुबह ब्रह्म मुहुर्त में केदारनाथ धाम के पाट खोल दिए गए। इस अवसर पर सीमित संख्या में लोगों को अनुमति दी गई । प्राचीन परपंरा के अनुसार हर साल महाशिवरात्रि के अवसर पर ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में केदारनाथ धाम के कपाट खुलने का मुहुर्त निकाला जाता है। इससे पहले शीतकालीन प्रवास के बाद गौरीकुंड से निकली डोली केदारनाथ धाम पहुंची।

11 कुंतल फूलों से सजाया मंदिर को

विश्व प्रसिद्ध भगवान केदारनाथ धाम के कपाट विधि विधान और पूजा अर्चना के बाद आज सुबह 5 बजे खोल दिए गए। कोराना संकट के चलते यह दूसरा असर है जब कपाट खुलने पर भगवान केदारनाथ के दरबार में भक्तों का भारी जमावड़ा नहीं था। इससे पहले केदारनाथ धाम में कपाट खुलने से पहले तैयारियों को आंतिम रूप दिया गया। पूरे मंदिर को 11 कुंतल फूलों से सुसज्जित किया गया है। मंदिर परिसर में भगवान भोलेनाथ के मंत्रों की धुनों से वातावरण भक्तिमय हो रहा है। केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग, मंदिर के मुख्य पुजारी बागेश लिंग और प्रशासन की मौजूदगी में मंदिर के कपाट खोले गए।

आम भक्तों का प्रवेश है प्रतिबंधित

कोरोना संकट के चलते आम भक्तों का मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है। कपाट के खोले जाने के वक्त केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग, मुख्य पुजारी बागेश लिंग, जिलाधिकारी मनुज गोयल, 21 तीर्थपुरोहित, देवस्थानम बोर्ड के 14 कर्मचारी, सीओ गुप्तकाशी अनिल मनराज, चौकी इंजार्च मंजुल रावत, 6 काटेबल, 2 महिला कास्टेबल, 4 मंदिर सुरक्षा गार्द के कर्मी उपस्थित रहे। इसके साथ ही तृतीय केदार तुंगनाथ मंदिर के कपाट भी आज खोले जाएंगे। अब बदरीनाथ धाम के कपाट मंगलवार 18 मई को को ब्रह्म मुहूर्त में सवा चार बजे खोले जाएंगे।