इस समय प्रदेश के करीब 13 जिलों में गर्म हवा चल रही है।
///

गर्मी के तीखे तेवर, 11 साल का टूटा रिकॉर्ड , जाने प्रदेश के मौसम का हाल

भोपाल: मध्य प्रदेश में इस साल गर्मी के तेवर मार्च में ही तीखे हो गए हैं। हालात यह है कि गर्मी ने 11 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। 2010 में मार्च में अधिकतम तापमान 40.8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा था, जो इस साल 42 डिग्री के पार पहुंच गया है।

तापमान में हुआ इजाफा

पूरे मालवा अंचल में मौसम में अचानक बदलाव आ गया है, जहां सोमवार का दिन अभी तक का सबसे गर्म दिन रहा। मौसम पर बात कहते हुए मौसम वैज्ञानिक डॉक्टर एच एल कपेडिया ने कहा कि यदि बीते पूरे सप्ताह के मौसम की बात करें तो तापमान 40 डिग्री से अधिकतम और 23 डिग्री न्यूनतम रहा। आगामी सप्ताह में यह तापमान 41 से 48 डिग्री अधिकतम होने की संभावना है। वहीं न्यूनतम 17-18 डिग्री से 20-21 तक रहने की संभावना है।

खजुराहों रहा सबसे गर्म

प्रदेश का सबसे गर्म खजुराहो रहा, जहां पर तापमान 42.8 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। इस समय प्रदेश के करीब 13 जिलों में गर्म हवा चल रही है। इन जगहों पर तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चला गया है। गुरुवार से तापमान में कुछ गिरावट होने की उम्मीद जताई जा रही है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि राजस्थान और गुजरात से गर्म हवाएं लगातार आ रही है। वहां पर लू चल रही है। इस वजह से इसका असर प्रदेश के मौसम पर पड़ रहा है।