////

Coronavirus: कोरोना से घर के तीन सदस्यों की हुई मौत तो घर की बहू से उठाया ऐसा खौफनाक कदम

Start

देवास। कोरोना के कहर ने एक परिवार को ऐसा सदमा दिया की खुशहाल घर तिनके-तिनके होकर बिखर गया। परिवार के तीन सदस्यों की मौत जब कोरोना की वजह से हुई तो परिवार की बहू इस सदमे को सहन नहीं कर पाई और उसने भी मौत को गले लगा लिया।

गर्ग परिवार के यहां हुआ हादसा

कोरोना ने कई घरों को उजाड़ कर रख दिया। कई घरों के चिराग बुझ गए तो किसी की मांग का सिंदूर छीन गया। कोरोना का कहर देश के करीब हर दूसरे या तीसरे घर पर टूटा। कुछ लोग इस बीमारी को मात देकर स्वस्थ्य हो गए तो कुछ के हिस्से जिंदगीभर का दर्द आया। ऐसा ही एक दिल दहला देने वाला मामला देवास से आया है, जहां पर घर के तीन सदस्यों को गंवाकर सदमे में आई बहू ने खुदकुशी कर ली। देवास में ये हादसा शहर के अग्रवाल समाज के अध्यक्ष बालकिशन गर्ग के यहां पर हुआ।

तीन लोगों की कोरोना से हुई मौत

गर्ग परिवार में पहले कोरोना के चलते बालकिशन गर्ग की पत्नी और दो बेटों की मौत हो गई। इसके बाद सदमें में आई बहू मे मौत को गले लगा लिया और जान दे दी। अब परिवार में बालकिशन गर्ग के अलावा उनकी बड़ी बहू और पोते-पोतियां रह गए हैं। सबसे पहले 75 साल की बालकिशन गर्ग की पत्नी चंद्रकला का 14 अप्रैल को कोरोना की वजह से निधन हुआ। उसके बाद दो दिन के अंतराल से 51 साल के बेटे संजय और 48 साल के बेटे स्वप्नेश का निधन हो गया। परिवार की छोटी बहू 45 साल की रेखा ये दर्द सहन नहीं कर पाई और उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। परिजन वरुण अग्रवाल ने बताया कि गर्ग परिवार का किराना का थोक व्यापार है। करीब 20 साल पहले रेखा बहू बनकर इस घर में आई थी।