///

Coronavirus: हैदराबाद में आठ एशियाई शेर पाए गए कोरोना संक्रमित, आइसोलेट कर हो रहा है इलाज

Start

Coronavirus: देश इस वक्त कोरोना संक्रमण की गंभीर महामारी से जूझ रहा है। लाखों लोग इसकी वजह से काल के गाल में समा चुके हैं और लाखों लोग अभी अस्पतालों में मौत से संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन कोरोना वायरस की दूसरी लहर इंसानों के साथ जानवरों के लिए भी घातक सिद्ध हुई है। हैदराबाद के चिड़ियाघर में एशियाई शेर कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

जानवरों में संक्रमण का पहला मामला

अभी तक इंसानों के कोरोना से पीड़ित होने के मामले सामने आ रहे थे, लेकिन अब इंसानों की ये बीमारी जानवरों को भी लग गई है। हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क में आठ एशियाई शेर कोरोना वायरस के शिकार हुए हैं। हालांकि, ये सभी शेरों की तबीयत में सुधार हो रहा है और वो धीरे धीरे इस बीमारी से उबर रहे हैं। देश में जानवरों में कोरोना संक्रमण होने का ये पहला मामला है। इन शेरों का पिछले महीने आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाया गया था, जिसमें ये सभी संक्रमित पाए गए। शेरों के कोविड पॉजिटिव मिलने के बाद देशभर के चिड़ियाघरों और नेशनल पार्क्स को बंद करने के निर्देश दिए गए है।

शेरों को किया गया आइसोलेट

सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलेक्यूलर बायोलॉजी ने 29 अप्रैल को एनजेडबी के अधिकारियों शेरों के संक्रमित होने के बारे में बताया था। एनजेडपी ने इस मामले में बताया कि संक्रमित होने के बाद से अब शेर बेहतर हो रहे हैं। पिछले साल अप्रैल महीने में न्यूयॉर्क के ब्रॉनोक्स चिड़ियाघर में आठ बाघ कोरोना संक्रमित पाए गए थे, लेकिन देश में पहली बार शेरों में कोरोना का मामला सामने आया है। वाइल्डलाइफ रिसर्च एंड ट्रेनिंग सेंटर के मुताबिक ब्रॉनोक्स में सामने आए मामले के बाद कहीं पर भी जंगली जानवरों में कोविड पॉजिटिव होने का मामला सामने नहीं आया था। हालांकि, हॉन्ग-कॉन्ग में कुत्तों और बिल्लियों में जरूर यह वायरस मिल चुका है।

24 अप्रैल को जब डॉक्टर पार्क का दौरा कर रहे थे, तभी उन्हें दिखाई दिया कि कुछ शेरों की नाक से पानी आ रहा है और कफ की समस्या हो रही है। इसके साथ ही वह खाना भी नहीं खा रहे थे। इसके बाद इन शेरों के स्वैब सैंपल्स लेकर जांच के लिए भेजा गया था। कोरोना संक्रमित होने के बाद इन शेरों को आइसोलेट कर दिया गया है। इलाज के बाद शेर बेहतर हो रहे हैं।