////

इंदौर-भोपाल में तत्काल मास्क हुआ अनिवार्य, कोरोना से निपटने के लिए अब ऐसी होगी सख्ती

महाराष्ट्र से आने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य कर दिया गया है।

भोपाल। लंबे समय से कोरोना के मामलों में गिरावट देखी जा रही थी, लेकिन अचानक कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार की चिंता को बढ़ा दिया है। इसके साथ ही सरकार फिर से सख्ती के मूढ में आ गई है।

भोपाल और इंदौर में कोरोना के बढ़े मामले

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल और इंदौर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद सरकार फिर अलर्ट हो गई है। इसको देखते हुए प्रदेश सरकार ने इंदौर-भोपाल में तत्काल मास्क अनिवार्य कर दिया है। इसके साथ ही अब महाराष्ट्र से आने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर समीक्षा बैठक की।

सतर्कता बरतने की कही बात

उन्होंने कहा कि कोरोना के संबंध में लगातार सतर्कता जरूरी है। थोड़ी सी लापरवाही विकराल रूप ले सकती है। भोपाल और इंदौर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद मुख्यमंत्री ने इंदौर और भोपाल में तत्काल मास्क को अनिवार्यता सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। इसके साथ महाराष्ट्र से लगे सभी जिलों में आने वाले व्यक्तियों का परीक्षण करने के निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री कहा कि शिवरात्रि पर्व पर होने वाले मेलों के संबंध में सतर्कता और जागरूकता आवश्यक है।

आवागमन पर रखें कड़ी नजर

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने विशेषकर महाराष्ट्र से लगे जिलों में आयोजित होने वाले मेलों में सहभागिता के संबंध में आरटी पीसीआर के परीक्षण की अनिवार्यता किए जाने की बात कही। बैठक में इंदौर और भोपाल से राज्य के अन्य भागों में होने वाले आवागमन पर सतर्कता के संबंध में भी विचार विमर्श हुआ। साथ ही सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक तत्काल आयोजित करें तथा जिला स्तर पर विद्यमान परिस्थितियों को देखते हुए आवश्यक सावधानी के संबंध में तत्काल निर्णय लें।