////

श्रद्धालुओं की भीड़ से महाकाल में मची भगदड़, कलेक्टर को संभालना पड़ा मोर्चा

Start

उज्जैन। उज्जैन के प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में सावन के पहले सोमवार को शिवभक्तों की भारी भीड़ पहुंचने से दर्शन व्यवस्था अचानक बिगड़ गई और इस वजह से वहां पर धक्का-मुक्की होने लगी। भारी भीड़ के उमड़ने से कलेक्टर आशीषसिंह को खुद व्यवस्था संभालना पड़ी।

5 हजार की थी अनुमति पहुंचे 25 हजार

सावन मास के पहले सोमवार को उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में शिवभक्त बड़ी संख्या में पहुंचे। इससे प्रशासन की व्यवस्था बिगड़ गई और मंदिर में अव्यवस्था फैल गई। प्रशासन ने 5 हजार श्रद्धालुओं के लिए ही रजिस्ट्रेशन की अनुमति पहले जारी की थी, लेकिन इसके बावजूद हजारों की संख्या में श्रद्दालु दर्शन के लिए पहुंच गए। सुबह 10 बजे तक करीब 25 हजार से ज्यादा श्रद्धालु दर्शन कर चुके थे।

मंदिर में फैली अव्यवस्था

भारी भीड़ की वजह से मंदिर परिसर में अव्यवस्था फैल गई और पुलिस प्रशासन के साथ कलेक्टर को मोर्चा संभालना पड़ा। सोमवार सुबह 6 बजे से शुरू हुआ दर्शनों का सिलसिला 11 बजे तक चला, अब शाम 7 बजे से 9 बजे तक भक्तों को मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। फिलहाल मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ है। आज सावन सोमवार की पहली सवारी है और भगवान महाकाल शाम 4 बजे पालकी में सवार होकर अपने भक्तों को दर्शन देने और उनके हालचाल जानने के लिए नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

महाकाल करेंगे नगर भ्रमण

महाकाल मंदिर से शुरू होकर सवारी बड़े गणेश मंदिर के सामने से हरसिद्धि चौराहा पर पहुंचेगी। यहां से झालरिया मठ के रास्ते से होते हुए सिद्धआश्रम के सामने से शिक्षा के रामघाट स्थित महाकल पेढ़ी पहुंचेगी। रामघाट पर पुजारी शिप्रा जल से भगवान महाकाल का अभिषेक पूजन करेंगे। इसके बाद सवारी मंदिर की ओर प्रस्थान करेगी।