/

MP के मुख्यमंत्री ने गुफा मंदिर में किया टीकाकरण महाअभियान का शुभारंभ

भोपाल। प्रदेश में 30 सितंबर तक प्रदेश के सभी पात्र लोगों को कोरोना टीके की पहली खुराक देने के संकल्प के साथ सोमवार को प्रदेश में टीकाकरण महाअभियान-4 शुरू हो गया है।

प्रदेश भर में आज 24 लाख 13 हजार लोगों को टीका लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। राजधानी भोपाल के गुफा मंदिर स्थित टीकाकरण केंद्र पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टीकाकरण का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने टीकाकरण महाअभियान का शुभारंभ करते हुए कहा कि महाअभियान प्रारंभ हुआ है। प्रदेश में रविवार शाम तक 6 करोड़ 11 लाख 23 हजार 864 लगाए गए हैं। अब तक 86 प्रतिशत लोगों को पहला डोज लग चुका है, यह अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में आज पहले चरण के टीकाकरण में पहले स्थान पर है। इसके लिए सभी अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों, टीकाकरण के कार्य में लगे स्वास्थ्य महकमे के मेरे भाई-बहनों को बहुत-बहुत बधाई। खेतों में जा-जाकर वैक्सीन लगाई जा रही है। हमारे वैक्सीन लगाने वाले भाई बहनों ने कोई कसर नहीं छोड़ी। 86 प्रतिशत लक्ष्य हम पूरा कर लिया है। जितने उपस्थित होते हैं, उन्हें खोज-खोजकर वैक्सीन लगाई जा रही है। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में भोपाल में पहले चरण में पात्र लोगों में उपलब्ध लोगों को 100 प्रतिशत टीकाकरण होने पर कहा कि मैं आज विशेष रूप से विशेष रूप से भोपाल की जनता, अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों और टीकाकरण से जुड़े कर्मचारियों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। भोपाल में पहले चरण का 100 प्रतिशत लक्ष्य पूरा हो गया है।

लेकिन जो भूले-भटके बच गए हैं, उन्हें टीके की पहली खुराक भोपाल में लगती रहेगी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि 100 प्रतिशत टीकाकरण का मतलब पात्र लोगों में जो वर्तमान में भोपाल में मौजूद हैं, उनमें 100 प्रतिशत को टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है। भोपाल के जो लोग मजदूरी करने या किसी अन्य कारण से बाहर हैं, उन्हें छोड़कर। वे जब भोपाल आएंगे, ऐसे भूले-भटके लोगों को भोपाल में टीके की पहली डोज लगती रहेगी।

ज्ञात हो कि प्रदेश में करीब 70 लाख लोगों ने अब भी पहला डोज नही लगाया है। वही 4 करोड़ 70 लाख के लोगो को पहला डोज लगाया जा चुका है  एक करोड़ 40 लाख लोगों को दूसरा डोज लगाया जा चुका है। सरकार ने पहले डोज नहीं लगाने वाले अधिकतर लोगों को चिन्हित कर लिया है। प्रदेश के इंदौर, भोपाल और हरदा में ही पहला डोज 100 प्रतिशत लगाया गया है।