//

विवादों में घिरी न्यायाधीश वर्ग 2 की परीक्षा

जबलपूर हाईकोर्ट

इंदौर. मध्य प्रदेश में न्यायाधीश वर्ग 2 की परीक्षा 2019 मार्च के माह में आयोजित की गई थी। इस परीक्षा में मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों के हजारों विद्यार्थी सम्मिलित हुए थे। परीक्षा के उपरांत 19 प्रश्नों को लेकर कई सवाल खड़े किए गए, जिसको लेकर जबलपुर हाई कोर्ट में सुनवाई होने के बाद ऐतिहासिक फैसला देते हुए दो रिटायर जजों की कमेटी बनाई गई है।

मध्य प्रदेश में न्यायाधीश वर्ग 2 की परीक्षा कुछ माह पहले आयोजित की गई थी। परीक्षा के दौरान प्रश्न पत्र में 19 प्रश्नों को लेकर विद्यार्थी द्वारा प्रश्न चिन्ह खड़े किए जा रहे थे, इसको लेकर विभिन्न विद्यार्थियों द्वारा अलग-अलग बिंदुओं पर करीब 17 याचिका लगाई गई थी, इन सभी याचिकाओं की  जबलपुर हाई कोर्ट द्वारा सुनवाई की गई जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता राघवेंद्र सिंह द्वारा बताया गया कि निशांत तिवारी द्वारा जबलपुर में यह याचिका दायर की गई है। दरअसल परीक्षा में 3 चरणों पर परीक्षा आयोजित की जाती है पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा, दूसरा  मुख्य परीक्षा और तीसरा साक्षात्कार होता है।

मार्च 2021 में प्रारंभिक परीक्षा मध्य प्रदेश हाई कोर्ट द्वारा ली गई थी जिसकी चयन सूची मध्य प्रदेश हाई कोर्ट द्वारा जारी की गई थी, 150 प्रश्न पत्र में शामिल थे। जब चयन सूची में कई छात्रों का सिलेक्शन नहीं हुआ तो मॉडल उत्तर जारी किए गए। उसके बाद कई छात्रों द्वारा हाईकोर्ट में आपत्तियां जारी की गई उन आपत्तियों को एग्जाम समिति द्वारा दायर याचिकाओं के आधार पर कुछ प्रश्नों के उत्तर बदल दिए गए।

मृदुभाषी के लिए इंदौर से चंकी बाजपेयी की रिपोर्ट