///

हरिनाम संकीर्तन से दूर होता हैं तनाव मिलती है नई ऊर्जा

इस्कॉन

इंदौर. हरिनाम संकीर्तन के द्वारा ही जीवन में किस तरह से उत्साह बना रहता है और आध्यात्म का हमारे जीवन में कितना महत्व है इसकी जानकारी इस्कॉन इंदौर से पधारे प्रभुजी महामंन दास ने शिवाजीराव कदम ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूट के कार्यक्रम में दी।

प्रभुजी महामंन दास ने फैकल्टी और स्टाफ से चर्चा की और जीवन में तनाव को दूर करने के और प्रसन्न रहने के तरीके बताए। उनका कहना है कि आज का जीवन बहुत तनाव से भरा हुआ है। रोज नए संघर्ष का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर प्रतिदिन संकीर्तन से जुड़े तो अनेक फायदे मिलते हैं और जीवन की सफलता का एक मात्र मार्ग हरिनाम संकीर्तन से खुल जाता है। 

इस अवसर पर संस्थान इस्कॉन मंदिर इंदौर एवं वृन्दावन द्वारा आयोजित हरिनाम संकीर्तन में गुरुकुल वैदिक पद्धति से शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्रों ने उत्साह से नृत्य और संकीर्तन किया। होलिस्टिक डेवलपमेंट सेल के प्रभारी डॉ. मनीष जोशी ने बताया कि हरिनाम संकीर्तन से कोरोना के पश्चात जो नीरसता वातावरण में छाई थी उसे काफी हद तक दूर किया जा सकता है। कार्यक्रम में उपस्थित पूना से आये संस्थान के चेयरमैन डॉ. राहुल कदम ने संकीर्तन को आज के हालातों में प्रथम आवश्यकता बताया।