//

डिलिवरी के बाद महिला की मौत पर परिजन का हंगामा

इंदौर। गर्भवती महिला की निजी हॉस्पिटल में डिलिवरी के बाद तबियत बिगड़ने से मौत का मामला सामने आया है। गुस्साए परिजन हॉस्प्टिल प्रबंधन का विरोध कर जमकर नारेबाजी कर शटर पर लात मारी। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी ने गुस्साई भीड़ का काबू में किया। पुलिस अधिकारियों से चर्चा करते हुए परिजन ने अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाया है।

बता दें कि मल्हारगंज पुलिस के मुताबिक 29 जून को काजल (25) पति प्रियंक, निवासी हुकुमचंद कॉलोनी की डिलिवरी के लिए परिजन ने उसे अंतिम चौराहे के समीप निजी हॉस्पिटल में भर्ती किया था। डिलिवरी बाद महिला की तबियत बिगड़ गई थी। अस्पताल ने 2 जुलाई को महिला को चोइथराम हॉस्पिटल रैफर कर दिया। मंगलवार को महिला की मौत हो जाने पर गुस्साए परिजन ने अस्पताल के सामने पहुंच कर नारे लगाए। कुछ लोगों ने शटर पर लात मारी। हालांकि पुलिस बल ने लोगों का रोका। वहीं, मौके पर पहुंचे सीएसपी जयंत राठौर ने गुस्साए पिता से चर्चा की। पिता बोले 29 तारीख को मल्हारगंज स्थित अस्पताल में बेटी को डिलिवरी के लिए भर्ती किया। आॅपरेशन से बच्चा हुआ। मां और बच्चा स्वस्थ थे। अगले दिन सुबह आठ बजे बेटी ने बताया कि उसे पेट में अधिक दर्द हो रहा है। आरोप है अस्पताल प्रबंधन ने इस बात को नजर अंदाज किया। इसके बाद बेटी ने कहा कि पापा मुझे बहुत तकलीफ हो रही है मैं हिल नहीं पा रही हूं। तबियत बिगड़ने पर अस्पताल प्रबंधन ने बेटी को चोइथराम हॉस्पिटल रैफर कर दिया।

परिजन का आरोप है कि अस्पताल में इलाज में लापरवाही बरतने पर महिला की जान गई है। इस पूरे मामले में मल्हारगंज पुलिस ने जांच करने की बात कही है। वहीं चोइथराम अस्पताल में महिला की मौत हो जाने पर गमगीन परिजन की शिकायत पर राजेंद्र नगर थाने मे मर्ग कायम हुआ है।