///

Corona vaccine: इंदौर में कोरोना वैक्सीन की तैयारियां शुरू, एयरपोर्ट पर 20 टन का कार्गो सेंटर तैयार

वैक्सीन के लिए 30 हजार लोगों की सूची तैयार की गई है।

इंदौर। कोरोना संक्रमण बढऩे के साथ अब बेसब्री से दुनियाभर को वैक्सीन का इंतजार है। केन्द्र सरकार ने भी इसकी तैयारी शुरू कर दी है। पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगाया जाना है। इंदौर के 30 हजार ऐसे लोगों की सूची स्वास्थ्य विभाग ने तैयार कर शासन और केन्द्र को भेज भी दी है। इंदौर एयरपोर्ट पर 20 टन का कार्गो सेंटर तैयार है, जिसका इस्तेमाल कोरोना वैक्सीन के भंडारण के लिए किया जा सकता है। इस संबंध में एयरपोर्ट अथॉरिटी भी तैयार है और उड्डयन मंत्रालय को पत्र भेजा गया है। एयरपोर्ट पर ही मौजूद यह सुविधा सबसे बेहतर मानी जा रही है, क्योंकि हवाई जहाजों के जरिए ही वैक्सीन की सप्लाय देशभर में होगी। इसके चलते एयरपोर्ट पर ही भंडारण की व्यवस्थाएं करवाई जा रही है।

इंदौर एयरपोर्ट का विस्तार अभी चल रहा है। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते 20 एकड़ शासन-प्रशासन से मिली जमीन पर काम शुरू नहीं हो पाया, मगर 20 टन क्षमता का पैरिशेबल कार्गो सेंटर अवश्य तैयार हो गया है। इस कार्गो सेंटर से इंदौर-पीथमपुर से बड़ी मात्रा में दवाएं और अन्य उत्पादों का आवागमन होगा और 24 ही घंटे यह कार्गो सुविधा उपलब्ध रहेगी। यहां तक कि अंतर्राष्ट्रीय उड़ान में भी यह कार्गो मददगार साबित होगा। फल, सब्जी सहित फार्मा कम्पनियों को इसका लाभ मिलना है। अभी सडक़ मार्ग से सामान जाने पर खराब होने की संभावना ज्यादा रहती है, लेकिन अब कार्गो सुविधा के चलते फल, सब्जी, दवाइयां और अन्य सामग्री देश-विदेश कम समय में ही भेजी जा सकती है।

कोरोना संक्रमण के चलते अब सभी को इसकी वैक्सीन का इंतजार है। भारत सरकार ने देशभर में होने वाले वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तैयारी शुरू कर दी है। फाइजर, मार्डना से लेकर सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा कोरोना वैक्सीन तैयार की जा रही है। अब इनमें से कौन-सी देश के लोगों को लगेगी इसका खुलासा तो थोड़े दिन बाद होगा, मगर फिलहाल तो वैक्सीनेशन प्रोग्राम, उसके देशभर में परिवहन, भंडारण और पहले किसका वैक्सीन हो इसकी तैयारी की जा रही है। इंदौर एयरपोर्ट पर जो कार्गो सेंटर तैयार है उसका इस्तेमाल कोरोना वैक्सीन भंडारण के लिए बेहतर तरीके से हो सकता है, जिसके प्रयास स्थानीय अधिकारियों ने शुरू कर दिए हैं और इस संबंध में उड्डयन मंत्रालय को भी पत्र अनुमति के लिए लिखा है।

कोल्ड चेन के लिए स्वास्थ्य विभाग ने भी कोरोना वैक्सीनेशन की तैयारियां शुरू कर दी है। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, डॉक्टरों और स्टाफ को पहले वैक्सीनेशन के लिए सूची तैयार की गई है। वहीं कोल्ड चैन के लिए डीपफ्रीजर और वाहनों की व्यवस्था भी की जा रही है। अभी राज्य शासन ने तीन डीपफ्रीजर कोरोना वैक्सीन की तैयारियों के चलते भिजवाए हैं। वहीं जो पुराने डीपफ्रीजर हैं उनकी मरम्मत से लेकर उन्हें बदलवाने की प्रक्रिया भी शुरू की गई है। आयुष लाइन्ड रेफ्रीजरेटर यानी आईएलआर की भी व्यवस्था की जा रही है। अभी 29 ऐसे छोटे आईएलआर उपलब्ध हैं, जो कि 200 से 400 लीटर क्षमता के हैं।

एयरोब्रिज के साथ ऑटोमैटिक पार्किंग सुविधा भी

कोरोना संक्रमण के चलते एयरोब्रिज के काम में थोड़ा-सा विलंब हो गया, जिसका शुभारंभ वहीं एयरपोर्ट पर फ्लाय बिग एयर लाइन्स का विमान भी उतरेगा, जिसने इंदौर को ही अपना बैस बनाया है और इंदौर से ही उड़ानों की शुरुआत की जा रही है। डीजीसीए से अनुमति के बाद फ्लाय बिग की उड़ानों का संचालन शुरू होगा। वहीं एयरपोर्ट पर ऑटोमेटेड पार्किंग सुविधा की शुरुआत भी की जा रही है। आने वाले फ्लाय बिक के विमान को वॉटर सैल्यूट भी दिया जाएगा। ये विमान दोपहर 1 बजे इंदौर पहुंचेगा।