/

बच्चे भी ढले योग में ,विधिक सेवा प्राधिकरण ने निकाली योजना , नियमित आसन-प्राणायाम कर बढ़ा रहे एकाग्रता

बुरहानपुर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बुरहानपुर की ओर से राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण की योजना बच्चों से मैत्रीपूर्ण संबंध के अंतर्गत सहारा बाल गृह के बच्चों हेतु योग एवं प्राणायाम शिविर आयोजित किया गया ।

जिला विधिक सेवा प्राधिकारी सचिव नरेन्द्र पटेल ने संबोधित करते हुए कहा कि आसन-प्राणायाम से हमारा शरीर प्राकृतिक रूप से स्वस्थ्य होता है और विद्यार्थी जीवन में नियमित प्राणायाम करने से एकाग्रता बढ़ने से स्मरण शक्ति बढ़ती है और बच्चें अच्छा अध्ययन कर सकते है। सूर्य नमस्कार के बारे में बताते हुये कहा कि एक सूर्य नमस्कार में कई आसन होते है और उसका काफी लाभ होता है। योग से होने वाले लाभों के बारे में अवगत कराया। इस अवसर पर बच्चों को सर्वप्रथम आसन पूर्व व्यायाम तत्पश्चात विभिन्न आसन, सूर्य नमस्कार एवं प्राणायाम सिखाये गये। बच्चों ने भी पूर्ण लगन से सीखें और उन्हें नियमित करने का आश्वासन दिया ।

शिविर में मोहन सोनी द्वारा बच्चों को विभिन्न आसन जैसे ताड़ासन, हनुमान आसन, त्रियक ताड़ासन, कटीचक्रासन, तितली आसन, सर्वांग आसन, हलासन, सूर्य नमस्कार एवं प्राणायाम सिखायें तथा उन्हें नियमित रूप से करने हेतु प्रेरित किया। श्री मोहन सोनी द्वारा बच्चों को जानकारी दी कि हमारा शरीर स्वस्थ्य रहने पर ही बीमारियों से हमारा बचाव हो सकता है। श्री मुधकर चौरे ने कहा कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु बच्चों को नियमित रूप से खेलकूद एवं योग करना चाहिए ।