स्वामी प्रसाद और धर्मसिंह सहित 8 विधायक सपा में शामिल

Start

लखनऊ:  : उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारी जोरों-शोरों से चल रही है. इस बीच भारतीय जनता पार्टी में एक के बाद एक कई विधायकों व मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया हैसपा पार्टी के राष्टीय अध्यक्ष अखिलश यादवने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी छोड़ने वाले मंत्रियों और विधायकों को अपनी पार्टी में आधिकारिक तौर पर ज्वाइन करा दिया है।

इस दौरान उन्होंने कहा कि  स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी समेत भाजपा के आठ बागी विधायक सपा में शामिल हो गए हैं। इनमें स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी, भगवती सागर, विनय शाक्य, रोशनलाल वर्मा, मुकेश वर्मा, बृजेश कुमार प्रजापति, चौधरी अमरसिंह शामिल हैं। इसके साथ ही अली यूसुफ अली, पूर्व मंत्री रामहेत भारती समेत कई नेता सपा में शामिल होने पहुंचे हैं। 

8 विधायकों ने सपा का दामन थाम लिया है

भाजपा छोड़ने के बाद मंत्री और विधायक आज सपा में शामिल हो गए हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिह सैनी सहित 8 विधायकों ने सपा का दामन थाम लिया है। दारा सिंह चौहान अभी तक वहां नहीं पहुंचे हैं। अखिलेश यादव ने मंच पर पहुंचकर सबको पार्टी की सदस्यता दिलाई है।

लोगों को शोषण का शिकार बनाया जा रहा है

अखिलेश यादव की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि बीजेपी ने देश और प्रदेश के लोगों को गुमराह किया है। लोगों को शोषण का शिकार बनाया जा रहा है। अब BJP की सरकार का खात्मा करके यूपी को बीजेपी के शोषण से मुक्त कराना है।

हम सब BJP को उखाड़ फेकने का संकल्प लेते हैं

मौर्य ने कहा कि यह समाजवाद और अम्बेडकरवाद का समागम है। कहा कि हम सब BJP को उखाड़ फेकने का संकल्प लेते हैं। आज 14 जनवरी मकर संक्रांति पर भारतीय जनता पार्टी का अंत लिखा जा रहा है।

विधायक और मंत्रियों से बात करने का वक्त नहीं मिलता था

भारतीय जनता पार्टी के बड़े-बड़े नेता जो कुंभकरण की तरह सो रहे थे, जिनको कभी विधायक और मंत्रियों से बात करने का वक्त नहीं मिलता था। हम लोगों के इस्तीफा देने के बाद उनकी नींद हराम हो गई। कुछ लोग यह कहते हैं कि बेटे के चक्कर में मैंने भाजपा छोड़ा। मैं ऐसे लोगों से कहना चाहता हूं कि भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने इस देश के गरीबों मजदूरों पिछड़ों की आंख में धूल झोंक कर सत्ता हथियाई। मौर्या ने योगी आदित्यनाथ के 80 और 20 के चुनाव पर कहा कि इस बार 85 हमारा है। और बाकी 15 फीसदी में भी बंटवारा है।

दलितों और पिछड़ा वर्ग ने आपको सीएम बनाने के लिए संकल्प लिया है

धर्म सिंह सैनी ने कहा कि अखिलेश भावी नहीं अब सीएम है। उन्होंने कहा कि कोविड और आचार सहिता न होती तो 10 लाख की रैली कर आपको सम्मनित किया जाता। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दलितों और पिछड़ा वर्ग ने आपको सीएम बनाने के लिए संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने उनको परिवार के सदस्य की तरह सम्मान दिया। बीजेपी पर तंज करते हुए कहा कि जहां से आ रहे हैं ,उनसे कई गुना ज्यादा सम्मान मिल रहा है।