//

भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर संभाग में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी

मध्यप्रदेश में भारी बारिश के बीच मौसम विभाग ने कई जिलों में भारी से भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। अगले 24 घंटे में उज्जैन संभाग और राजगढ़ जिले के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। यहां अति भारी से अति भारी बारिश की संभावना है।ग्वालियर, नर्मदापुरम, इंदौर संभाग और भोपाल संभाग के कुछ जिलों के अलावा रायसेन, भोपाल, सीहोर में भी अति भारी बारिश होगी। चंबल, सागर और जबलपुर संभाग में भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटे से बारिश हो रही है। इस दौरान भोपाल सबसे ज्यादा 7.5 इंच बारिश हो चुकी है। सागर में 6.8 इंच, जबलपुर में 6.2 इंच बारिश हो चुकी है। भोपाल, नर्मदापुरम, जबलपुर, सागर, शिवपुरी समेत कई जिलों में सोमवार को स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी गई है।

उधर, सुकतवा नदी के उफान पर आने से औबेदुल्लागंज-बैतूल नेशनल हाईवे सुबह 4 बजे से बंद है। अशोकनगर में कार समेत 5 लोग बह गए। इनमें से एक की मौत हो गई। विदिशा की लटेरी तहसील के इस्लामनगर में स्टॉप डैम फूट गया। इससे दर्जनभर से ज्यादा गांवों की फसलें डूब गईं। स्टॉप डैम एक साल पहले ही बना था। उधर, अनूपपुर में लैंड स्लाइड के कारण मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ का संपर्क टूट गया है।

नर्मदा, बेतवा, कालीसिंध, शिप्रा, शिवना समेत कई नदियां उफान पर हैं। डैम भी ओवरफ्लो हो गए हैं। नर्मदापुरम के तवा और जबलपुर के बरगी डैम से पानी छोड़ने के कारण नर्मदा का जलस्तर बढ़ गया है। बरगी के 17 गेट और तवा डैम के 13 गेट से पानी छोड़ा जा रहा है। सुबह साढ़े 9 बजे इन गेटों को 10-10 फीट तक खोल दिया गया है। नर्मदापुरम में सेठानी घाट पर नर्मदा का जलस्तर 949.90 फीट पहुंच गया है। तवा के और गेट खोले गए तो बाढ़ की स्थिति बन सकती है।