/

कुंडली के कमजोर ग्रह बतलाते हैं, आपको कैसा खाना है पसंद

Start

Dharma: मानव की जिंदगी का निर्धारण कुंडली के ग्रहों की दशा के अनुसार होता है। ग्रहों के शुभ-अशुभ प्रभाव से जीवन चक्र प्रभावित होता है और उसके जीवन के सुख-दुख का निर्धारण होता है। ग्रहों का खान-पान से भी संबंध है और इंसान के ऊपर जिस ग्रह का जैसा प्रभाव होता है उसी के अनुसार वह भोजन के रसों को पसंद करता है। अब हम बात करते हैं कैसे आपके खाने पीने की आदतों से कुंडली की ग्रह दशा का पता चलता है। लाल किताब में आपकी ग्रहदशा और खाने का संबंध बतलाया गया है। ग्रहों से संबंधित खाना खाने से आपकी ग्रह संबंधी कमजोरी दूर होती है।

सफेद वस्तुओं का चंद्र और शुक्र से है संबंध

कुछ लोगों को मीठा खाने का शौक होता है तो किसी पसंद तीखा खाना होता है। कुछ लोग खट्टे के शौकीन होते हैं तो किसी को कसैला स्वाद पसंद आता है। मानव की जीभ को क्या पसंद है यह सिर्फ एक प्राकृतिक क्रिया नहीं है। स्वाद का सीधा संबंध कुंडली के ग्रहों से होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिन लोगों का सूर्य कमज़ोर होता है ऐसे लोग नमकीन भोजन के शौकीन होते हैं। इन्हें तेज नमक खाना पसंद होता है। चन्द्रमा और शुक्र दोनों सफेद रंग का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए चन्द्र या शुक्र के कमजोर होने की दशा में दूध, दही, चावल आदी जातक को पसंद होते हैं।

हरी सब्जियां है बुध की पसंद

जिन लोगों का मंगल कमजोर होता है उनको लाल खाद्य पदार्थ ज्यादा पसंद होते हैं ऐसे लोग मसूर की दाल, शहद एवं लाल मिर्च खाने के शौकीन होते हैं। ऐसे लोग मीठा खाना भी ज्यादा पसंद करते हैं। जिन जातकों का बुध ग्रह कमजोर होता है उनको मूंग की दाल हरी सब्जियां आदि ज्यादा रुचिकर लगते हैं। बृहस्पति ग्रह के कमजोर प्रभाव वाले लोग पीले खाद्य का अधिक सेवन करते हैं। इनको चने की दाल, सोनपापड़ी, बेसन के लड्डू एवं हल्दी खाना अधिक पसंद होता है। जिन जातकों का शनि कमजोर होता है उनको तैलीय चीजें काफी पसंद होती है। ऐसे लोगों की पसंद उड़द, तिल, खिचड़ी, सरसो तेल आदि होते हैं।