//

24 साल बाद लिफ्ट सुधारने के लिए खोली तो उसमें से निकला रौंगटे खड़े करने वाला रहस्य

पुलिस ने इस मामले में 24 साल पहले मेडिकल कॉलेज में जो लोग काम कर रहे थे उनसे पूछताछ कर रही है।

लखनऊ: आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश से अक्सर विस्मयकारी और चौंकाने वाली खबरें आती रहती है। ऐसी ही एक सनसनीखेज मामले ने लोगों को हिला कर रख दिया। दरअसल कॉलेज की एक बंद पड़ी लिफ्ट से सालों पुरानी लाश निकली है।

1997 से बंद है लिफ्ट

बंद पड़ी लिफ्ट से लाश निकलने का मामला उत्तर प्रदेश में बस्ती जिले के सरकारी मेडिकल कॉलेज का है। यह चौकाने वाला खुलासा उस वक्त हुआ जब पिछले 24 साल से बंद पड़ी लिफ्ट को मरम्मत के लिए खोला गया। जैसे ही लिफ्ट को खोला उसमें से एक कंकाल निकला। इससे वहां मौजूद सभी लोग चौंक गए और हंगामा मच गया। 1997 में मेडिकल कॉलेज में यह लिफ्ट लगाई गई थी, लेकिन उसके तुरंत बाद यह खराब हो गई। इसके बाद किसी ने इसकी सुद नहीं ली और यह 24 सालों तक खराब ही पड़ी रही। सरकारी कारिदों ने भी दिलचस्पी नहीं ली और यह भी कहना है कि लिफ्ट जिस कंपनी की थी उन्होंने भी इसको सुधारने में रुचि नहीं ली।

लापता लोगों के जुटाई जा रही है जानकारी

लिफ्ट से कंकाल निकलने की खबर मिलते ही बस्ती के एएसपी दीपेंद्र नाथ चौधरी पुलिस बल के साथ मौके पह पहुंच गए। कंकाल पर पुरूष के कपड़े थे इससे यह प्रतीत होता है कि यह कंकाल किसी पुरुष का हो सकता है। पुलिस ने इस मामले में 24 साल पहले मेडिकल कॉलेज में जो लोग काम कर रहे थे उनसे पूछताछ की लेकिन कोई ठोस जानकारी निकलकर सामने नहीं आई। अब पुलिस के सामने चुनौती इस रहस्य के राजफाश की है, कि कत्ल कर लाश को लिफ्ट में डाला या लिफ्ट को जानबूझकर खराब किया गया। या फिर कोई लिफ्ट में गया और तकनीकी खराबी की वजह से उसमें फंसकर मर गया। यदि लिफ्ट में कोई फंस गया था तो वह मदद के लिए चिल्लाया क्यों नही। ऐसे कई सवाल अभी सामने खड़े हैं और पुलिस इनका जवाब तलाश रही है।

सुराग तलाशने में लगी पुलिस

पुलिस का कहना है कि शव के पोस्टमॉर्टम के बाद डीएनए प्रोफाइलिंग कराई जाएगी और इसके साथ ही 1997 के जिस महीने में लिफ्ट खराब हुई थी, उस महीने गुमशुदा हुए लोगों को 24 साल पुराने पुलिस रिकॉर्ड भी ढूंढे जाएंगे। पुलिस ने लोगों से भी लापता लोगों की जानकारी देने की अपील की है।