//

तेलंगाना के बुनकर ने नायाब हुनर से माचिस की डिब्बी में पैक होने वाली साड़ी बुनी

Start

हैदराबाद: तेलंगाना के रहने वाले एक बुनकर ने ऐसी साड़ी को बुना है, जो एक माचिस की डिब्बी में पैक हो जाती है। शुद्ध रेशम के धागों से बनी यह साड़ी कला का अदभुत नमूना है।

शुद्ध रेशम से बनी है साड़ी

औपनिवेशिक काल में कहा जाता था कि ढाका की मलमल का पूरा थान एक माचिस की डिबिया में समा जाता था। ऐसा ही नायाब हुनर का तानाबाना बुना है तेलंगाना के सिरसिला शहर के रहने वाले एक कलाकार ने। नल्ला विजय नाम के बुनकर ने महीन कारीगरी से ऐसी साड़ी को बुना है जो एक माचिस की डिब्बी में पैक हो जाती है। शुद्ध रेशम से बनी इस साड़ी को अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर प्रस्तुत किया गया है।

नल्ला विजय ने बुनी साड़ी

तेलंगाना के नगर प्रशासन और शहरी विकास मंत्री केटी रामाराव के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल के जरिए इस साड़ी का गुणगान किया गया है। इसमें उन्होंने एक प्रतिभाशाली बुनकर द्वारा बनाई गई अद्भुत रचना के बारे में बताया है। नल्ला विजय की इस नायाब कला का हैदराबाद में मंत्री एराबेली दयाकर राव, सबिता इंद्रारेड्डी और वी श्रीनिवास गौड़ के साथ-साथ केटी रामा राव की मौजूदगी में प्रदर्शन किया गया।

11 जनवरी को शेयर किए जाने के बाद से इस पोस्ट को करीब 700 लाइक्स मिल चुके हैं और कई सपोर्टिव कमेंट्स मिले हैं. लोग बुनकर नल्ला विजय की जमकर तारीफ कर रहे हैं. एक ट्विटर यूजर ने पोस्ट किया, “महान प्रतिभा,” दूसरे ने लिखा, “नमस्कार भाई,” तीसरे यूजर ने लिखा, “विजय, आशा है कि आपके सपने सच हों!” वहीं, चौथे ने लिखा, “महान प्रयास.”