/////

Vaccination: ग्राम पंचायत ने किया एलान, नो वैक्सीन-नो राशन, 85 फीसदी ग्रामीणों ने लगवा लिया टीका

Start

Vaccination: कोरोना से बचाव का सिर्फ एक ही उपाय है वैक्सीनेशन। कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है और अब लोगों को फ्री वैक्सीन लगा रही है, लेकिन इसके बावजूद अज्ञानता, अंधविश्वास और भय के चलते लोग टीका नहीं लगा रहे हैं। लोगों को टीका लगाने का अनोखा उपाय जबलपुर की एक ग्राम पंचायत ने खोजा है।

ग्राम पंचायत का अनोखा फरमान

भ्रांतियों और अफवाहों की वजह से लोग वैक्सीन लगवाने से बच रहे हैं। जबलपुर के एक गांव के लोग इसी वजह से वैक्सीनेशन से कतरा रहे थे, लेकिन गांव की ग्राम पंचायत ने एक ऐसा नायाब तरीका इजाद किया जिससे कि वैक्सीनेशन केंद्रों पर लोगों की लंबी लाइन लगना शुरू हो गई। ग्राम पंचायत ने फरमान जारी कर स्थानीय लोगों से यह भी कह दिया कि अगर यहां के निवासियों को किसी भी सरकारी योजना का लाभ चाहिए तो पहले उन्हें वैक्सीन लेना पड़ेगा।

नो वैक्सीन-नो राशन

राशन के बदले वैक्सीनेशन का ये तरीका जबलपुर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर शाहपुरा ब्लॉक के अंतर्गत आने वाली शिहोदा पंचायत का है। ग्रामीण जब लाख कोशिशों के बावजूद वैक्सीन के लिए नहीं आए तो ग्राम पंचायत ने फरमान जारी कर दिया कि नो ‘वैक्सीन-नो राशन।’ पंचायत ने कह दिया कि जो लोग वैक्सीनेशन के लिए नहीं जाएंगे उन्हें पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन शॉप्स यानी पीडीएस से राशन नहीं मिलेगा। इसके साथ ही यह भी कहा कि अगर यहां के निवासियों को किसी भी सरकारी योजना का लाभ चाहिए तो पहले उन्हें वैक्सीन लेना पड़ेगा।

ग्राम पंचायत ने फरमान का शुरू में कोई असर नहीं हुआ, लेकिन जब सख्ती हुई तो लोग वैक्सीन के लिए कतार में खड़े होने लगे और अब गांव की 85 प्रतिशत आबादी को वैक्सीन लग चुका है। वैक्सीनेशन दर में आई इस बेहतरीन उछाल को देख कर अब आसपास के अन्य ग्राम पंचायत भी इस तरह के आदेश जारी करने के बारे में विचार भी कर रहे हैं ताकि इलाके में वैक्सीन को बढ़ावा देकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती दी जा सके।