////

Tractor Rally Violence: दिल्‍ली पुलिस ने खंगाले 200 से ज्‍यादा वीडियो फुटेज, ऐसे होगा साजिश का पर्दाफाश

Tractor Rally Violence: पुलिस ने 10 फोटोग्राफर और 10 वीडियो कैमरा बाहर से निजी तौर पर मंगवाए थे।

Tractor Rally Violence: गणतंत्र दिवस के मौके प्रदर्शनकारी किसानों के ट्रैक्‍टर मार्च में हुई हिंसा को लेकर पुलिस को कुछ अहम सूत्र हाथ लगे हैं। दिल्‍ली पुलिस इस मामले में 6 संदिग्‍धों की पहचान करने का दावा किया है।

200 से ज्‍यादा वीडियो फुटेज से मिले सुराग

दिल्‍ली पुलिस ने 200 से ज्‍यादा वीडियो फुटेज के आधार पर इन संदिग्धों की पहचान की है। इन लोगों की हिंसा भड़काने को लेकर अहम भूमिका सामने आ रही है. फुटेज के आधार पर इन सभी लोगों की तलाश की जा रही है। हिंसा की आशंका को देखते हुए गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान पुलिस ने 10 फोटोग्राफर और 10 वीडियो कैमरा बाहर से निजी तौर पर मंगवाए थे। गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम समाप्त होने के बाद इन सभी को रैली के लिए काम पर लगा दिया गया था। अब इनसे मिले फ़ोटो और वीडियो के आधार पर उपद्रवियों की पहचान की जा रही है।

पुलिस ने जनता से मांगी मदद

उपद्रवियों की पहचान करने करने के लिए पुलिस ने जनता की भी मदद मांगी है। पुलिस ने जनता से अपील की है कि हिंसा के दौरान जिन लोगों ने भी मोबाइल कैमरे से वीडियो बनाए हैं, वो पुलिस कोसौंप दें। अब तक पुलिस को हिंसा से संबंधित 200 से ज्यादा फुटेज मिल चुकी है। जांच के दौरान पुलिस को कुछ किसान नेताओ के भड़काऊ भाषण देते हुए वीडियो भी मिले हैं। उनकी जांच की जा रही है। इसके साथ ही किसान आंदोलन जब से शुरू हुआ तब से लेकर 26 जनवरी तक जितने भी व्हाट्सएप ग्रुप बने हैं, उन सभी की जांच की जा रही है।