/

आज है राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस, जानिए क्यों मनाया जाता है यह

Start

इंदौर: दूसरों के साथ अपनी खुद की सुरक्षा भी बेहद जरूरी है। लोगों के बीच में इसी जागरुकता को बढ़ाने के मकसद से हर साल 4 मार्च को भारत में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य हमारे जीवन के विभिन्न समयों में जागरूकता न होने या ध्यान न देने के कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोकना है। इस सप्ताह के दौरान सुरक्षा जागरुकता कार्यक्रम के द्वारा दुर्घटना से कैसे बचा जाए इसके बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है, लेकिन आखिर इस दिन को मनाने का आइडिया कैसे आया, कैसे हुई इसकी शुरुआत और हर साल क्यों अलग राखी जाती है इसकी थीम, चलिए जानते है विस्तार से-

हर साल मनाया जाता है

4 मार्च 1966 को भारत में नेशनल सेफ्टी काउंसिल की स्थापना हुई थी, तभी से इस दिन को नेशनल सेफ्टी डे के रूप में मनाया जाने लगा। पहले से मनाए जाने वाले नेशनल सेफ्टी डे को अब नेशनल सेफ्टी सप्ताह के रूप में भी मनाया जाने लगा है। हर साल इस दिन की अलग थीम होती और इस बार 2021 के नेशनल सेफ्टी डे का थीम है “आपदा से सीखें और सुरक्षित भविष्य की तैयारी करें'”।

कार्यक्रमों का होता है आयोजन

नेशनल सेफ्टी डे सप्ताह मनाने के लिए देशभर में कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसमें लोगों को दुर्घटनाओं से बचाव, ड्राइविंग के रूल्स और तरीके बताकर उन्हें खुद के साथ दूसरों की सुरक्षा के लिए भी जागरुक किया जाता है। वैसे राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस देश की सीमा पर तैनात सिपाहियों और सिक्योरिटी विभाग को समर्पित होता है जिनकी वजह से देश की सीमाएं और हम सुरक्षित हैं। नेशनल सेक्योरिटी डे मनाने का मतलब सिर्फ देश के दुश्मनों से देश की सुरक्षा करना ही नहीं बल्कि देश के सभी लोगों को बीमारियों से सुरक्षित करना भी है, अर्थात इस दौरान स्वच्छता के प्रति भी लोगों को जागरूक किया जाता है।