////

दुनिया में कोरोना की तीसरी लहर शुरू, भारत में भी आहट?

Start

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. ट्रेडोस अदनोम घेब्रेयसस ने कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच दुनिया में तीसरी लहर शुरू होने का ऐलान कर दिया है। विश्व के सबसे बड़े स्वास्थ्य निकाय प्रमुख ने कहा कि 10 सप्ताह की गिरावट के बाद, मौतें फिर से बढ़ रही हैं। वायरस का विकास जारी है, जिसके परिणामस्वरूप यह अधिक संक्रमणीय रूप हैं। दुर्भाग्य से, हम अब तीसरी लहर के शुरुआती चरण में हैं।

111 देशों में पहुंचा डेल्टा वेरिएंट

उन्होंने कहा, डेल्टा वेरिएंट अब दुनिया के 111 देशों में पहुंच चुका है। हमें आशंका है कि यह जल्दी ही दुनिया में कोरोना संक्रमण का सबसे घातक स्ट्रेन साबित होगा। डब्ल्यूएचओ चीफ ने कहा कि वायरस लगातार खुद में बदलाव कर रहा है। इसके साथ ही यह ज्यादा संक्रामक होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि टीकों के वैश्विक वितरण में चौंकाने वाली असमानता है और जीवन रक्षक उपकरणों तक असमान पहुंच है। उन्होंने अफसोस जताया कि कई देशों को अभी भी कोई टीका नहीं मिला है और अधिकांश को पर्याप्त टीका नहीं मिला है।

भारत में बढ़े डेल्टा वेरिएंट के मामले

उधर, भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर बड़े पैमाने पर चिंता जताई जा रही है। इस बीच डेल्टा वेरिएंट के मामलों में इजाफा देखने को मिल रहा है। वहीं कोरोना के रूप में भी लगातार बदलाव देखने को मिल रहा है। इसने भारत के लिए तीसरी लहर का खतरा और बढ़ा दिया है। एक फॉरेन ब्रोकरेज फर्म ने अपनी रिपोर्ट में यह चिंता जाहिर की है। यूबीएस सिक्योरिटीज इंडिया की चीफ इकॉनमिस्ट तन्वी गुप्ता जैन का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर का खतरा ज्यादा दिखाई दे रहा है। आर्थिक गतिविधियों में लगातार इजाफा हो रहा है। वहीं कई राज्यों में भी लगातार कोरोना संबंधी कड़ाइयों में छूट दी जा रही है। इसने भी कहीं न कहीं खतरा बढ़ाया है। यूबीएस की रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीनेशन की रफ्तार में भी बीते दिनों में कमी आई है।

इतने देशों में मिले ये वेरिएंट

111 से ज्यादा देशों में पहुंच चुका डेल्टा वेरिएंट
178 देशों में कोरोना का का अल्फा वेरिएंट
123 देशों में वायरस का बीटा वेरिएंट
75 देशों में मिल चुका गामा वेरिएंट

इन देशों में बढ़े इतने प्रतिशत केस

45% इंडोनेशिया में
28% ब्रिटेन में
67% अमेरिका में
61% स्पेन में

भारत में टीकाकरण की रफ्तार कम हुई

40 लाख डोज पहले हर दिन लगाए जा रहे थे देश में
34 लाख तक आ गई है अब यह संख्या।
45% केस ग्रामीण इलाकों में सामने आ रहे हैं। इसलिए खतरनाक है यह स्थिति।

भारत में 20 प्रतिशत जिले खतरनाक

यूबीएस सिक्योरिटीज इंडिया की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश के ज्यादातर केस 20 प्रतिशत जिलों में मिल रहे हैं। यहां दूसरी लहर का ही असर खत्म नहीं हुआ है और तीसरी लहर की आहट सुनाई देने लगी है। इकोनॉमिक पॉइंटर सामान्य हो रहे हैं, लेकिन ये अब भी मिले-जुले नतीजे दिखा रहे हैं।

भारत में पाबंदियों में छूट से जोखिम बढ़ा

यूबीएस सिक्योरिटीज इंडिया की चीफ इकोनॉमिस्ट तन्वी गुप्ता जैन ने कहा है कि कई राज्य पाबंदियों में ढील दे रहे हैं, बाजार खुल रहे हैं, इस वजह से तीसरी लहर का जोखिम और ज्यादा हो गया है। देश में वैक्सीनेशन की रफ्तार भी धीमी पड़ने लगी है।

मप्र में 31 जुलाई तक नई गाइडलाइन

-मध्यप्रदेश के लिए अब गृह विभाग ने अनलॉक को लेकर 31 जुलाई तक नई गाइडलाइन जारी की है। इसका पालन अब प्रदेशवासियों को करना होगा।
-सरकार ने अभी नाइट कर्फ्यू में किसी तरीके की छूट नहीं दी है। सभी कलेक्टरों को निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं।
-सभी धार्मिक पूजा स्थल खुल सकेंगे, लेकिन एक समय में 6 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं रह सकेंगे.
-सभी प्रकार की दुकानें व्यवसायिक प्रतिष्ठान निजी कार्यालय शॉपिंग मॉल अपने नियत समय तक खुल सकेंगे।
-सिनेमाघर कुल क्षमता 50 फीसदी की सीमा में संचालित हो सकेंगे। सिनेमाघर संचालक को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करना होगा।
-इसके साथ सभी लघु और उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता के साथ काम कर सकेंगे। जिम और फिटनेस सेंटर 50% क्षमता के साथ सकेंगे.
-खेलकूद के स्टेडियम खुल सकेंगे, लेकिन खेल आयोजनों में दर्शक शामिल नहीं हो सकेंगे।
-सभी रेस्टोरेंट और क्लब के साथ रात 10 बजे तक खुल सकेंगे।
-विवाह आयोजनों में दोनों पक्ष मिलाकर अधिकतम संख्या 100 रहेगी।
-50 लोग अंतिम संस्कार में शामिल हो सकेंगे।

-रूल ऑफ सिक्स लागू रहेगा। इसके तहत किसी भी स्थान पर 6 से अधिक व्यक्ति एक साथ खड़े होने पर प्रतिबंध रहेगा।