//

उज्जैन में बारिश के बीच धूमधाम से निकल रही है भगवान महाकाल की शाही सवारी

राजाधिराज अवंतिकानाथ भगवान महाकाल नगर भ्रमण पर धूमधाम से निकले हैं। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में सोमवार शाम 4 बजे उद्घोष के साथ महाकाल शाही सवारी नगर भ्रमण के लिए रवाना हो गई। अवंतिकानाथ के स्वागत में धर्मधानी को दुल्हन की तरह सजाया गया है।

भादौ मास के दूसरे सोमवार को निकली राजाधिराज महाकाल की सवारी में आस्था का सैलाब उमड़ा है। लाखों लोग बाबा के दर्शन के लिए रास्तों में खड़े हैं। रिमझिम बारिश के बीच सवारी के शुभारंभ होते ही जय महाकाल के घोष से सवारी मार्ग क्षेत्र गुंजायमान हो गया है। सवारी कोट मोहल्ला, गुदरी चौराहा, बक्षी बजार, कहारवाड़ी, हरसिद्धि की पाल से होकर शिप्रा तट पर पहुंचेगी। यहां जलाभिषेक के बाद विभिन्न मार्गों से होते हुए सवारी पुन: मंदिर पहुंचेगी।

सवारी में बाबा महाकाल पालकी में चंद्रमौलेश्वर, हाथी पर मन महेश, गरुड़ रथ पर शिव तांडव, नदी पर उमा महेश, डोलरथ पर होलकर और सप्तधान रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी उज्जैन पहुंच गए। वे यहां बाबा महाकाल की पालकी का पूजन करेंगे।

सात किलो मीटर लंबे सवारी मार्ग पर स्वागत द्वार, वंदनवार तथा फूलों से सजावट की गई है। शाही सवारी में भजन मंडलिया, झांझ डमरू सहित करीब 70 दल शामिल हैं। स्थानीय पांच बैंड शाही कारवां में मधुर स्वर लहरी बिखेरते निकले हैं। 1800 पुलिस जवान सुरक्षा की कमान संभाल रहे हैं। प्रशासन को देशभर से 3 लाख से अधिक भक्तों के सवारी देखने आने का अनुमान है। उसी के अनुसार इंतजाम जुटाए गए हैं। शाम 4 बजे शुरू होकर सवारी रात करीब 10 बजे पुन: महाकाल मंदिर पहुंचकर संपन्न होगी।