///

गरीबों को मिलेगा अब मुफ्त इलाज ,मुख्यमंत्री कोरोना योजना के तहत काम शुरू

योजनाओं के तहत होगा कोरोना का उपचार

मध्यप्रदेश में कई प्रभावी योजनाएं संचालित की जा रही है वही इंदौर में जिला प्रशासन द्वारा धरातल पर उतारने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक कर मुख्यमंत्री को भी उपचार योजना की जानकारी दी गई और शहर के 70 हॉस्पिटलों की लिस्ट बनाकर शासन को भेजी गई है ताकि गरीबों को मुफ्त में इलाज मुहैया कराया जा सके ।

इंदौर में जिला प्रशासन द्वारा रेसीडेंसी कोठी पर जिला स्वास्थ्य अधिकारियों सहित निजी अस्पतालों के संचालकों के साथ बैठक की गई जिसमे कलेक्टर का कहना था जी राज्य शासन द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं के तहत आयुष्मान कार्ड, सम्भल योजन सहित गरीबी रेखा धारक पात्रता पर्ची धारक को शहर के हॉस्पिटलों में आसानी से उपचार उपलब्ध किया जा सके जिसके लिए योजना तैयार की गई है,और इस योजना के तहत निजी हॉस्पिटल संचालक को होटल पर रजिस्ट्रेशन से लेकर अन्य कई योजनाओं के बारे में बताया गया।

कैटेगरी जानकर अस्पतालों में आधे घंटे में जुड़ेगा नाम

कलेक्टर ने बताया कि जिन परिवारों के पास आयुष्मान कार्ड है और उस परिजन को पात्रता की आवश्यकता है तो ऐसे में वह हॉस्पिटल में ही आधे घंटे के अंदर अपना नाम जुड़वा सकते हैं इसके लिए अस्पतालों में योजनाएं उपलब्ध कराई गई है जिन के पास संभल योजना गरीबी रेखा के कार्ड है वह हॉस्पिटल में ही अपनी कैटेगरी जानकर हॉस्पिटल में उपचार जारी करवा सकते हैं ओर शहर में अभी भी कई हॉस्पिटल है जहाँ पर योजनाये नही संचलित की जा रही उन हॉस्पिटल की सूची सन्तोष टैगोर द्वारा तैयार की जा रही है ताकि अधिक से अधिक गरीबो को शासन की योजनाओं का लाभ मिल सके ।

अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में

कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा कल बताय गया था कि शुरुआती दौर 22 से 24 अप्रैल के बीच में काफी स्थिति खराब थी लेकिन अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। अस्पतालों में बाहर से आने वाले मरीजों के चलते हॉस्पिटलों मैं ऑक्सीजन की व्यवस्था अभी भी कराई जा रही है लेकिन शहर में भले ही आंकड़ा कम नहीं हो रहा है लेकिन कोरोना मरीजों की गंभीर स्थिति सामने नहीं आ रही है मरीजों को जल्द इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि उन्हें हॉस्पिटल की आवश्यकता ना पड़े ।