////

नर्सिग स्टाफ ने अपनी माँगो को लेकर किया प्रदर्शन ,सरकार ने नहीं मानी मांगे तो होगा उग्र प्रदर्शन

इंदौर। मध्यप्रदेश में कोरोना माहमारी की शुरुआती दौर में कई पैरामेडिकल स्टाफ को मरीजो के ईलाज के लिए प्रदेश में कोविड सेंटर में लाया गया था लेकिन आचनक से 7 से 8 हजार नर्सिग स्टॉफ को हटाये जाने की बात को लेकर नर्सिग स्टाफ द्वारा MTH अस्पताल के कोविड सेंटर के बाहर प्रदर्शन कर अपनी 3 सूत्री मांगे सरकार के सामने रखी है ।

बता दे कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआती दौर में सरकार द्वारा सभी को एक दूसरे की मदद करने का आह्वान किया गया था और इसी कड़ी में शासन द्वारा कोविड-19 में मरीजों को इलाज मुहैया कराने के उद्देश्य से प्रदेश में 7 से 8000 आयुष चिकित्सा दंत चिकित्सा पैरामेडिकल फार्मासिस्ट सहित नर्सिग स्टाफ की नियुक्तियां की गई थी। उन्हीं नर्सिंग स्टाफ के कारण प्रदेश में महामारी में मरीजों को उचित इलाज मुहैया कराया गया था। इन्हीं नर्सिंग स्टाफ के कारण शहर एक भयावह स्थिति से बाहर निकलने में भी सफल रहा है लेकिन आज इन्हीं विभिन्न प्रकार के नर्सिंग स्टाफ द्वारा अपनी 3 सूत्री मांगों को लेकर कोविड-19 के बाहर प्रदर्शन किया है ।

सभी नर्सिंग स्टाफ को संविदा में नियुक्ति दी जाने की मांग

नर्सिग स्टाफ का कहना है कि अब उनका काम होने के बाद शासन उन्हें निकालने के मूड में है क्योंकि अब कोरोना फिर से अपनी अंतिम स्थिति में पहुंच चुका है, लेकिन पूरा नर्सिंग स्टाफ इसका विरोध करता है। सभी नर्सिंग स्टाफ को संविदा में नियुक्ति दी जाए वेतन में वृद्धि की जाए साथ ही अन्य नर्सिंग स्टाफ को मिलने वाली सुविधाएं भी उन्हें प्रदान की जाए। इन्हीं सूत्री मांगों को लेकर प्रदर्शन कर प्रदेश में स्टॉफ द्वारा काम बंद किया गया है

पति की मौत के बाद भी करते रही काम

नर्सिग स्टाफ अर्चना कंसारे का कहना है कि पिछले दिनों जब वह कोविड-19 सेवाएं दे रही थी तभी उनके पति का देहांत हो गया था । देहांत के 10 दिन तक उन्होंने अवकाश पर रहकर घर संभाला और 10 दिनों के बाद जब वह वापस आए तो उनकी तन्खा तक काट ली गई। नर्सिंग स्टाफ को केवल 1 दिन का सप्ताह में अवकाश दिया जाता है ।अब यदि हमारी सेवाएं समाप्त कर हमें घर बैठा दिया जाएगा तो हम घर कैसे चलाएंगे इन्हीं सभी सवालों को लेकर शासन के सामने इन सभी नर्सिंग स्टाफ ने एक साथ लामबंद होकर गुहार लगाई है ।

शासन व सरकार के सामने उग्र प्रदर्शन करने की तैयारी में जुटे

स्टाफ नर्स द्वारा कोई सेंटर के बाहर बैनर लेकर प्रदर्शन कर अपनी मांग मांगने की कवायद की गई है और उन्होंने सरकार को चेतावनी दी की यदि मांगे पूरी नहीं होती है तो आने वाले दिनों में शासन व सरकार के सामने उग्र प्रदर्शन कर किया जाएगा ।